Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

1. बोरर का लार्वा टिलर में प्रवेश कर खाता है, वृद्धि करता है और इसके कारण फसल के चरण के आधार पर ‘मृत बीज के दाने’ अथवा ‘सफेद बाली’ का लक्षण प्रकट होता है। 

2. टिलरिंग के चरण में, कीटों द्वारा पौधों को बार-बार खाने के परिणामस्वरूप पौधों के आधार से शीर्ष के भाग कट कर अलग हो जाते हैं।  

3. पत्ते का केन्द्रीय छल्ला नहीं मुड़ता, भूरे रंगा का हो जाता है और सूख जाता है जबकि नीचे के पत्ते हरे और स्वस्थ्य रहते हैं। यह स्थिति ‘मृत बीज दाना’ कहलाता है। प्रभावित टिलर  में पुष्प-गुच्छ लगने से पहले यह सूख जाता है। 

4. पुष्प-गुच्छ के दौरान, वृद्धि कर रहे भाग आधार से कट कर अलग हो जाते हैं जिसके परिणामस्वरूप पुष्प-गुच्छ सूख जाता है। पुष्प-गुच्छ दुबारा नहीं उग पाता और वे जो पहले से उगे हैं उनमें दाने नहीं बन पाते। 

5. खाली पुष्प-गुच्छ खेत में बिल्कुल स्पष्ट हो जाते है

1. आन्ध्र प्रदेश, आसाम, बिहार, गुजरात, कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, उड़ीसा, पंजाब, तमिलनाडु, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू और कश्मीर, उत्तर प्रदेश और प. बंगाल।

21
Sep

स्टेम बोरर का जीवनचक्र

•चिलो एसपी (Chilo sp.) के अंडे अतिच्छादित पंक्तियों या

गुच्छों में होते हैं और असुरक्षित रहते हैं।  

•सिसेमिया एसपी. (Sesamia sp.) के अंडे पत्ते के आवरण के आंतरिक भागों में पाए जाते हैं।  

•अंडे का समय 5-9 दिनों तक चलता है।  

•अंडे से बाहर निकलने पर, एस. इंसर्ट्युलस (S. incertulas) और एस. इनोटाटा (S. innotata) का लार्वा अंडे से सिल्क के धागे से लटका रहता है और हवा के झोंके से निकट के टिलर अथवा पौधों पर उड़ कर फैल जाता है। चिलो एसपी. (Chilo sp.) का लार्वा टिलर के ऊतकों में छेद करने से पहले पत्ते तथा फूलों के आवरण को कुतरता है। सिसेमिक एसपी. (Sesamia sp.) का लार्वा ऊतकों में छेद करने से पहले इधर-उधर भटकते हैं। लार्वा की अवधि तापमान के आधार पर बदलती रहती है और निम्न तापमान में तने के आधारीय गांठ अथवा मिट्टी में डिस्पॉज रहता है। जब यह पूर्ण विकसित हो जाता है, स्टेम बोरर का लार्वा तने, तिनके अथवा पुआल के अन

•वयस्क स्टेम बोरर कीट अत्यधिक फोटोटैक्टिक होते हैं और विशेषकर पराबैंगनी प्रकाश पर आकर्षित होते हैं।  

•वे लाइट ट्रैप में आसानी से एकत्रित किए जा सकते हैं।  

•वयस्क कीट सूर्यास्त के बाद संभोग करते हैं और अंडे देते हैं। 

•पौधों के पुराने और चौड़े पत्ते सिर्पोफेगा एसपी ( Scirpophaga sp.) कीटों द्वारा ओवीपोज़िशन के लिए पसंद किए जाते हैं।   

•कीट सक्रिय टिलरिंग स्टेज के पौधे और फूल लगने से पहले के पौधों पर अंडे देना पसन्द करते हैं।  

•अंडे देने के लिए आदर्श तापमान है 28-290C और सापेक्षिक आर्द्रता 60% होती है। एस. इंसर्ट्युलस ( S. incertulas) और एस. इनोटाटा (S. innotata)  पत्तों के आवरण पर गुच्छों में ओविपोज़िट होते हैं तथा अंडे नमदा जैसे बालों और शल्कों से ढके रहते हैं।  

 

 

अनुकूल कारक: 

•कीट सक्रिय टिलरिंग स्टेज के पौधे और फूल लगने से पहले के पौधों पर अंडे देना पसन्द करते हैं।  

•अंडे देने के लिए आदर्श तापमान है 28-290C और सापेक्षिक आर्द्रता 60% होती है।  

•S. incertulas तथा S. innotata पत्तों के आवरण पर गुच्छों में अण्डे देते हैं तथा अंडे नमदा जैसे बालों और शल्कों से ढके रहते हैं। 

•कल्चरल घटक जैसे प्रजाति, मिट्टी का pH, ऊर्वरक अनुप्रयोग और यहां तक कि चावल के फसल की पोषकीय स्थिति स्टेम बोरर की घटना की दर को प्रभावित करता है। 

•चावल के पौधे में सिलिका की मात्रा भी बोरर के प्रति संवेदनशीलता पर असर डालता है। 

प्रमुख प्राकृतिक शत्रु : पारासिटॉइड्स (Parasitoids)

टेट्रस्टाईकस स्पिशिस Tetrastichus spp. 

ट्रेकोग्रामा  स्पिशिस Trichogramma spp.

 

21
Sep

राइस स्टेम बोरर का फैलाव

1. राइस स्टेम बोरर कीटों का एक समूह है जो चावल की फसल को भारी क्षति पहुंचाता है।  

2. संपूर्ण भारत में स्टेम बोरर की पांच प्रजातियों का फैलाव है। उनमें, पीले रंग के स्टेम बोरर (YSB), सिर्पोफेगा इंसर्ट्युलस  Wlk (Scirpophaga incertulas Wlk.) सबसे अधिक व्यापक, प्रबल और विनाशकारी है।  

3. अन्य बोरर जैसे गुलाबी बोरर, सिसेमिक इनफेरेंस (Sesamia inferens) प्राय: उत्तर-पश्चिमी इलाकों के चावल-गेहूं फसल प्रणाली में पाया जाता है, सफेद बोरर सिर्पोफेगा इनोटाटा, (Scirpophaga innotata) दक्षिण भारतीय इलाकों में खासकर केरल में सामान्य रूप से पाया जाता है, काले रंग के सिर वाले स्टेम बोरर, चिलो पॉलिक्रिसस  Meyr ( Chilo polychrysus  Meyr.) और  धारीदार स्टेम बोरर, चिलो सप्रेसलिस   Meyr (Chilo suppressalis  Meyr) आसाम और पश्चिम बंगाल के क्रमश: पूर्वी और उत्तरी भागों में पाया जाता है।

 

वर्ग        :  इनसेक्टा                          

क्रम        :  लेपिडोप्टेरा          

सुपरफैमिली  :  पायरालोइडिया

फैमिलीज़    :  पायरालिडी (Pyralidae)       

स्पीसीज़     :   इंसर्ट्युलस (Incertulas)

 

21
Sep

प्राकृतिक महत्व के कीट

1. स्टेम बोरर 

2. गॉल मिज

3. ग्रीन लीफहोपर

4. प्लांट होपर

5. लीफ फोल्डर

6. गन्धी बग

 

Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies