Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

22
Sep

राइस मीली बग का प्रबन्धन

राइस मीली बग के प्रबन्धन में शामिल है कल्चरल, जैव तथा रासायनिक विधियां।

1. खेतों में स्पष्ट मोम और पाउडर जैसे पदार्थ से ढके कीटों द्वारा तथा उनके द्वारा पर्याक्रमित पौधों पर चींटियों की उपस्थिति से मीली बग की आबादी को आसानी से पहचाना जा सकता है।  

2. वयस्क और नवजात पौधे से रस चूसते हैं जिसके कारण पौधे की वृद्धि रुक जाती है और पत्ते पीले होकर मुड़ जाते हैं। 

3. भारी आक्रमण की स्थिति में, पौधा विशेष की मिट्टी सूख जाती हैं और पुष्प-गुच्च अच्छी तरह से खुल नहीं पाते।  पर्याक्रमण मिट्टी में होता है और यह नमी के बढ़ने पर प्रबल हो जाता है। 

 

1. ये विनाशक कीट ovipary तथा              

parthenogenetic vivipary द्वारा प्रजनन किए जाते हैं।

2. अंडे देने के साथ-साथ ही नवजात अंडे से बाहर निकल जाते हैं और ये अलग ही मोम जैसी और पाउडर जैसे आवरण से ढके रहते हैं।

3. नवजात कीट पत्ते के आवरण और तने के बीच बिना हिले-डुले पड़े रहते हैं।

4. मीली बग द्वारा पर्याक्रमित पौधे पर चींटियां बराबर आती हैं और कीटों को अपर्याक्रमित पौधों पर खींच कर ले जाती हुई पाई गई हैं।

1. राइस, सैनोडान् डाकटीलान, पास्पालम स्क्रोबिक्युलेटम, एल्युसाइन इनडीका, डीजीटेरिया सान्गुइनालिस Cynodon dactylon, Paspalum scrobiculatum, Eleusine indica, Digitaria sanguinalis तथा फिम्ब्रिसटैलिस स्पिशिस Fimbristylis spp.

22
Sep

राइस मीली बग का विस्तार

सूखे क्षेत्रों में उगने वाली फसलों में और उबर-खाबड़ सतह वाली खेतों में जहां पौधे अपेक्षाकृत सूखी मिट्टी की धारियों में होते हैं, वहां ये बहुतायत से पाया जाते हैं।

वर्ग    :  इन्सेक्टा Insecta

क्रम    :  होमोप्टेरा Homoptera 

फैमिली   : सुदोकोक्क्सिडे Pseudococcidae 

जीनस   : ब्रेवेन्निया Brevennia 

स्पीसीज : रेही rehi

 

22
Sep

दीमक का प्रबन्धन

1. खेत को जोतकर दीमक के घोंसलों, उनके रास्तों और सुरंगों को नष्ट कर दें और उन्हें परभक्षियों जैसे चींटियों, चिड़ियों और मुर्गों इत्यादि के लिए खुले में छोड़ दें।

2. खेतों में दीमक पनपने से रोकने एक लिए फसल चक्र अपनाएं। प्रत्येक फसल के मौसम में एक ही प्रकार के फसल लगाने से यह दीमकों के हमले के लिए अनुकूल होता है। 

3. दीमकों द्वारा हमले किए जाने वाले वार्षिक फसलों के बारे में जानिए और उनकी सूची बनाइए। अंतर-फसली प्रक्रिया को अपनाएं ताकि दीमकों की पसंदीदा फसल पर होने वाली क्षति को कम किया जा सके। 

 

• पर्याक्रमित पौधें को वह अपनी गुफा में लेकर जाते हैं और उनके भूमिगत भाग को जैसे तने और जड़ों को खाते हैं। आरम्भिक रूप से, पौधों में पीलापन और शिथिलता दिखाई देती है।

22
Sep

दीमक की जैव पारिस्थितिकी

1. ये समूह में रहने वाले कीट अपने घर में प्रकाश न आने

देने के लिए मिट्टी के अन्दर  स्थायी रूप से घोंसला बनाते हैं। 

2. वे पौधों की जड़ें खाते हैं और रात के समय मिट्टी में उगे अंकुरण को चट कर जाते हैं।  

3. पौधों की विकसित अवस्था में, दीमक की घटना और उनके द्वारा होने वाली आनुपातिक क्षति बढ़ जाती है। 

4. खेत में 15 सेमी की जल जमाव की स्थिति में भी दीमक ऊतकों में मौजूद रहते हैं और उन्हें खाते रहते हैं। 

 

22
Sep

दीमक का प्रसार

• कम वर्षा और सूखे की स्थिति में दीमक प्राय: विनाशक कीट के रूप में लाल मिट्टी में पाया जाता है।

• मिट्टी में यदि अत्यधिक मात्रा में वनस्पति हो तो यह दीमक के लिए शरण स्थल बन जाता है।

Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies