Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

1. मादा भौंड़े पत्ते के नर्म हिस्से को कुतरती है और मेसोफिल के अन्दर अंडे देती है। एक मादा कीट 33-101 अंडे देती है।  

2. अंडे सेने की अवधि 3-5 दिनों की होती है।  ग्रब्स 4 बार मोल्ट होता है और लार्वा की अवधि 10-15 दिनों की होती है। प्यूपा के अवधि 4-6 दिनों के एहोती है और वयस्क 78 दिनों तक जेवित रहते हैं। 

3. छोटे बर्रे अंडे और लार्वा पर हमला करते हैं। reduviid कीट वयस्कों को खाते हैं। तीन फफूंदी रोगजनक (पैथोजन) होते हैं जो वयस्कों पर हमला करते हैं।

 

22
Sep

राइस हिस्पा का विस्तार

1. पहले, एक छोटा विनाशक कीट, Hispa (Dicladispa armigera) अब चावल का एक प्रमुख कीट बन गया है खासकर भारत के उत्तर-पूर्वी, पूर्वी और मध्य क्षेत्रों में।

2. आसाम, बिहार, प. बंगाल, मध्य प्रदेश और आन्ध्र प्रदेश में हिस्पा एक प्रमुख विनाशक कीट के रूप में पाया जाता है।

वर्ग      : इन्सेक्टा

क्रम      : कोलियोप्तेरा Coleoptera 

फैमिली :  क्रयीसोमेंलीडे Chrysomelidae 

जीनस  :    डैक्लाडिस्पा Dicladispa 

स्पीसीज :  आर्मिजेरा armigera 

 

22
Sep

राइस रूट एफिड का प्रबन्धन

1. ऐसे प्राकृतिक शत्रु हैं जो राइस रूट एफिड की संख्या को नियंत्रित कर सकते हैं।

2. नवजात और वयस्क दोनों का एक छोटे ब्रैकोनिड बर्रे द्वारा भक्षण किया जाता है और mermithid निमेटोड्स का भौंड़ों द्वारा शिकार कर लिया जाता है।

1. हमले हुए पौधों पीले पड़ जाते हैं और पत्ते का शीर्ष सूख कर मुड़ जाते हैं।

2. पौधे के निकट की मिट्टी भुरभुरी हो जाती है और अफिड के साथ चींटियां बहुतायत से पाई जाती हैं।

1. मादा बिना निषेचन के ही प्रजनन करती है और पंख अथवा बिना

पंख वाली कीट के रूप में विकसित होती है। वयस्क चींटियों द्वारा जड़ के आसपास बनाए गए गुहाओं में रहते हैं और वयस्क अपने संपूर्ण जीवनकाल में 35-40 जन्म देते हैं। 

2. अत्यधिक पर्याक्रमण की स्थिति में, पंख वाले कीट विकसित होते हैं और स्थना परिवर्तन के लिए पत्तों पर चढ़ जाते हैं। 

3.Braconid wasp,a mermithid निमेटोड्स तथा भौंड़े प्रमुख प्राकृतिक शत्रु हैं। 

22
Sep

राइस रूट अफिड का विस्तार

भारत में चावल की ऊंची भूमि वाली खेतों में राइस रूट एफिड प्रमुखता से पाए जाते हैं।

वर्ग     : इन्सेक्टा Insecta

क्रम     : होमोपटेरा Homoptera 

फैमिली    : अफिडीडे Aphididae 

जीनस    : टेट्रान्यूरा Tetraneura 

स्पीसीज  : नैग्रिया अबडोमिनालिस nigriabdominalis 

 

1. जैव नियंत्रण द्वारा राइस मीली बग को कम किया जा सकता है। छोटे बर्रे मीली बग को खाते हैं।

2. मकड़ी, क्लोरोपिड कीट, ड्रोसोफिलिड तथा भौंड़े मीली बग के परभक्षी होते हैं।

1. उचित साफ-सफाई का ध्यान रखें। इस्तेमाल के बाद उपकरणों को साफ करें। खेतों में काम करने वाले जानवरों और आप अपने आप को पर्याक्रमित क्षेत्रों से अपर्याक्रमित क्षेत्रों में उसी दिन जाने से बचें।

2. मीली बग खेती के उपकरणों, जाली सामग्री, पौधों के भागों तथा खेतों में काम करने वाले जनवरों द्वारा एक स्थान से दूसरे स्थान तक फैलता है। पर्याक्रमित पौधे और पौधों के भागों का इस्तेमाल अधिक नहीं करना चाहिए। इन्हें खेतों से बाहर कर नष्ट कर देने चाहिए। 

3. चींटियों कोनियंत्रित करें या मार दें। खेतों में पानी डालकर जुताई करें। इससे चींटियों के घर नष्ट हो जाते हैं और उनके अंडे और लार्वा परभक्षी और सूर्य प्रकाश के लिए खुले में आ जाते हैं। पौधों से पोषण लेने के लिए चीटियां मीली बग का इस्तेमाल करती हैं।  

4. उच्च घुलनशील नाइट्रोजनी ऊर्वरक के अधिक इस्तेमाल से बचें क्योंकि

Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies