Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

जैव-ऊर्वरक

PrintPrintSend to friendSend to friend

जैव-ऊर्वरक

1. कम इनपुट वाले पर्यावरण के लिए ये सबसे अच्छे होते हैं।

2. सिंचित चावल के लिए मुख्य रूप से तीन N-स्थिरीकरण तंत्र होते हैं- नील-हरित शैवाल, एजोला(सिम्बायोटिक) और एजोस्पिरिलम(एसोसिएटिव)

3. फॉस्फेट घुलाने वाले सूक्ष्मजीवी भी सिंचित चावल के लिए उपयोगी होते हैं जबकि एंडोमाइकोरिज़ा ( endomycorrhiza) का उपयोग चावल से इतर बिना बाढ़ वाले तंत्र के लिए किया जाता है।

4. जैव-ऊर्वरक की 1 मि.टन की तुलना में मौजूदा सप्लाय 0.01 मि.टन से कम है।

File Courtesy: 
DRR टेक्नीक बुलेटिन नं. 11, 2004-2005, एम.नारायण रेड्डी, आर. महेन्द्र कुमार एंड बी. मिश्रा, साइट स्पेसिफिक इंटीग्रेटेड न्युट्रिएंट मैनेजमेंट फॉर सस्टेनैबल राइस बेस्ड क्रॉपिंग सिस्टम
Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies