Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

शीथ रॉट

PrintPrintSend to friendSend to friend

कारणात्मक जीव - मॅग्नापोर्थे सैल्विनिटी               

लक्षण

1. जुताई के पश्चात धान संक्रमित हो जाता है। 

2. आरंभिक संक्रमण पत्ती के कोष में तने पर एवं परिपक्वता की ओर जाते हुए नाल में व्याप्त हो कर ठहराव उत्पन्न कर देता है। 

3. कोष में नीचे की ओर गहरे भूरे रंग के दाग बन जाते हैं जिनका कोई आकार नहीं होता। इस रोग के कारण पुष्पगुच्छी उभर नहीं पाती।

4. यदि पुष्पगुच्छी उभरती है तो अनाज नहीं भरता एवं उपज नष्ट हो जाती है।

प्रबंधन

1. बीजारोपण से पहले बीज उपचार। 

2. ऐड़िनोफॉस या हैग्ज़ाकोनाज़ोल (0.1%) या मैन्कोज़ॅब (0.3%) के प्रकार के फफूंदनाशी का प्रयोग करें।

3. प्रतिरोधी प्रजातियों का उपयोग करें।

 

 

Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies