Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

Rice stem borer राइस स्टेम बोरर

PrintPrintSend to friendSend to friend

1. स्टेम बोरर  (Scirpophaga incertulus) चावल का एक प्रमुख कीट है

और यह इस सारे क्षेत्र में पाया जाता है। मादा मॉथ के अगले डैने चमकीले पीले रंग के होते हैं और प्रत्येक पर एक काला धब्बा होता है। साथ ही पीले बालों वाले एनल टफ्ट भी पाया जाता है।

2. नर कीट के अगले डैने पर काले धब्बे नहीं पाए जाते। अंडे पत्तियों की छोर पर दिए जाते हैं जो पांडु रंग के रोम से ढके होते हैं। प्रत्येक अंडे के ढेर में 20-25 अंडे होते हैं और मादा ऐसे 3-4 अंडों के ढेर उत्पन्न करते हैं।

3. अंडे सेने की अवधि 6-8 दिनों की होती है और नया विकसित लार्वा पत्रावरण में प्रवेश कर जाते हैं। वहां से वे पौधे के नोडल क्षेत्र के निकट छेद कर अन्दर प्रवेश कर जाते हैं। 30-40 दिनों में लार्वा पूर्ण विकसित हो जाते हैं और इनकी अंतिम लंबाई 2 सेमी तक होती है।

4. प्यूपा गहरे भूरे रंग के होते हैं और यह अवस्था 6-10 दिनों की होती है।

5. लार्वा तने के अन्दर पोषण प्राप्त करता है जिसकारण पौधे का केन्द्रीय तना मृत हो जाता है और पुष्पगुच्छ की अवस्था में ‘श्वेत कर्ण’ की स्थिति उत्पन्न होती है।

6. इस कीट से फसल को 12-15% तक नुकसान पहुंचता है। मादा मॉथ रात में प्रकाश की ओर तेजी से आकर्षित होती हैं। Entomopathogenic nematodes (mermithids), entomogenous fungi (Beauveria velata, B. bassiana) और hymenopterian parasitoids (Tetrasticus sp.) चावल पारितंत्र में पाए जाने वाले सामान्य प्राकृतिक शत्रु हैं।

 

 

File Courtesy: 
ICAR NEH,उमियम
Image Courtesy: 
CRRI
Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies