Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

फ़सल वाले पौधों के खनिज पोषण स्थिति का रोगों तथा पीड़कों पर प्रभाव

PrintPrintSend to friendSend to friend

1.Balanced nutrition is the key to crop plants relative to plant health besides crop productivity.  पौधों के स्वास्थ्य तथा उनकी उत्पादकता के लिए संतुलित पोषण काफी अहम होता है। 

2. फ़सल की वृद्धि/उपज पर खनिज पोषण का प्रभाव को अच्छी तरह से अध्ययन किया गया है तथा पौधे की वृद्धि/उपापचय में सामान्यतः उनके संरचनात्मक/शरीर-क्रिया वैज्ञानिक/जैव-रसायनिक कार्य की व्याख्या की जाती है। 

3. उर्वरकों के इस्तेमाल के जरिए कई बार किसान अधिक उपज पाने के लिए उनका असंतुलित उपयोग करते हैं, जो चावल जैसी फ़सल में रोगों/पीड़कों की अधिक संभावना उत्पन्न करता है।   

4. स्वाभाविक है कि पर्याक्रमण तथा पोषण स्थिति/उर्वरक के इस्तेमाल के बीच एक सरल संबंध की अपेक्षा करना अवास्तविक/एकपक्षीय होगा। 

5. अतः संबंधों के बीच की बहुआयामी जटिलताओं को समझने की जरूरत है, जो पोषक पौधों तथा रोग/पीडकों के उत्पन्न होने के बीच मौजूद होता है। इससे चावल जैसी प्रमुख फ़सल के उत्पादक किसानों को पोषण के प्रबंधन की रणनीति बनाने तथा उसके अनुपालन में सहायता मिलती है।  

 

File Courtesy: 
DRR टेक्निकल बुलेटिन नं. 11, 2004-2005, एम. नारायण रेड्डी, आर. महेन्दर कुमार तथा बी. मिश्रा, चावल आधारित फ़सल प्रणाली हेतु स्थल-विशिष्ट समेकित पोषण प्रबंधन
Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies