Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

लीफ फोल्डर द्वारा हुई क्षति की प्रकृति और लक्षण

PrintPrintSend to friendSend to friend

1. लार्वा भोजन करने से पहले, पत्ते को लंबवत रूप से मोड़ते हैं और पत्ते के किनारे को सिल्क जैसे धागों से सिलते हैं। 

2. लार्वा हरे मेसोफिल को कुतरकर खाते हैं जिसके परिणामस्वरूप मद्धिम सफेद रेखा उभर आते हैं। दूसरे इंस्टर से, जब लार्वा नियमित रूप से पत्तों को लपेटते हैं वे निर्जन हो जाते हैं।    

3. सामान्य रूप से क्षतिग्रस्त पौधे की ताकत और प्रकाशसंश्लेषण की क्षमता में भारी कमी हो जाती है।  गंभीर पर्याक्रमण की स्थिति में पत्ते का किनारा और शीर्ष पूरी तरह से सूख जाते हैं और फसल सफेद जैसा दीखने लगता है। क्षतिग्रस्त पत्ते फफूंदी और कीटाणुओं के पर्याक्रमण के लिए प्रवेश द्वार का काम करने लगते हैं। 

4. विनाशकारी कीट जैसे दीमक, खटमल, राइस सीडलिंग फ्लाइ और रूट अफाइड ऊंची भूमि की चावल के लिए विशिष्ट होते हैं। 

 

File Courtesy: 
IPM –NCIPM निबन्ध
Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies