Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

जल की गुणवत्ता

PrintPrintSend to friendSend to friend

1. पर्याप्त सिंचाई के समय, चावल की उत्पादक फसल पाने के लिए

जल आवश्यक है, खराब किस्म के जल से मिट्टी से जुड़ी समस्याएं आ सकती है और चावल पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है। मिट्टी से संबंधित कुछ समस्याएं जो चावल को प्रभावित करती है उनमें शामिल हैं लवणता (उच्च घुलणशील नमक), जिंक की कमी, फॉस्फोरस की कमी, और सोडियम की अधिक मात्रा जिसके कारण मिट्टी की स्थिति खराब होती है।

2. चावल उगाने वाले क्षेत्रों में लवणता की समस्या सामान्य होती है।

3. अंकुरण की वृद्धि की अवस्था में चावल, क्लोराइड और नाइट्रेट के प्रति बहुत ही संवेदनशील होता है।

4. यदि जल में अत्यधिक ठोसों की मात्रा हो तो इससे नोज़ल ब्लॉकेज उत्पन्न होता है।

5. कुछ रासायनों की प्रभाविता को जबरदस्त तरीके से मिट्टी के निलंबित कणों द्वारा कम किया जा सकता है।

File Courtesy: 
DRR प्रशिक्षण पुस्तिका
Image Courtesy: 
IRRI
Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies