Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

फसल कटाई

PrintPrintSend to friendSend to friend

1. उच्च परिशुद्धता बनाए रखने के लिए, कटाई और थ्रेसिंग के समय अत्यधिक सावधानी बरतनी चाहिए। कटाई से ठीक पहले मादा कतार में लेफ्ट-ओवर पॉलेन शेडर (मेंटेनर पौधे), ऑफ टाइप और नर पैरेंट पौधे (रेस्टोरर) की जांच करें।

2. खेत में कोई अवांछित पौधा नहीं है यह सुनिश्चित हो जाने के बाद पहले नर कतार की कटाई करनी चाहिए और सभी बालियों को सावधानी से निकालना चाहिए।

3. कटाई किए हुए नर पौधों को अलग थ्रेसिंग फ्लोर पर ले जाएं जहां केवल नर पैरेंट की थ्रेसिंग की जाए। अब कटाई के लिए तैयार मादा कतार की सावधानी से दुबारा जांच करें ताकि लेफ्ट ओवर पौधे या नर पैरेंट की बाली (पुष्पगुच्छ) न हों।

4. इसके बाद मादा पौधे की कटाई होनी चाहिए और अलग फ्लोर पर उनकी थ्रेसिंग होनी चाहिए। थ्रेसिंग फ्लोर पर पहले वाली फसल के दाने नहीं होने चहिए और यह बिल्कुल साफ-सुथरा रहना चाहिए।

5. थ्रेसिंग के लिए हार्वेस्ट कम्बाइनर, थ्रेसर, ट्रैक्टर या बैलों का इस्तेमाल किया जा सकता है। हार्वेस्ट कम्बाइनर या थ्रेसर के इस्तेमाल में इस बात का खास ध्यान रहे कि इस्तेमाल के पहले और बाद यंत्र की सफाई अच्छी तरह से की जाए ताकि एक से अधिक किस्मों के धान के दाने आपस में मिश्रित न हों।

6. थ्रेसिंग के बाद दानों को अच्छी तरह सुखाकर बोरे में बंद करना चाहिए। बोरे पर अन्दर और बाहर दोनों ओर से लेबुल लगाना चहिए जिस पर सभी जरूरी विवरण लिखे हों, जैसे कि- लॉट की पहचान संख्या या लॉट नम्बर, कटाई की तिथि और लॉट का परिमाण।

File Courtesy: 
http://www.fao.org/docrep/006/y4751e/y4751e0j.htm#TopOfPage
Image Courtesy: 
IRRI
Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies