Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

Haryana

7
Dec

Haryana, paddy arrival, mandis

Over 54 lakh MT paddy arrives in Haryana

Chandigarh, Dec 6: 

Over 54.78 lakh metric tonnes of paddy has so far arrived in various mandis of Haryana during the current procurement season as compared to the arrival of over 52.01 lakh metric tonnes of paddy during the corresponding period last year.

Stating this here on Friday, a spokesman of the Food and Supplies Department said that out of the total arrival, the government agencies have procured over 35.73 lakh metric tonnes of paddy and millers have purchased over 19.05 lakh metric tonnes of the produce.

He said Food and Supplies Department has purchased over 14.45 lakh metric tonnes of paddy, HAFED over 10.20 lakh metric tonnes, Agro Industries Corporation over 5.84 lakh metric tonnes, Haryana Warehousing Corporation over 3.44 lakh metric tonnes, CONFED over 1.65 lakh metric tonnes and Food Corporation of India 13,157 metric tonnes of paddy.

The spokesman said that district Karnal is leading in paddy arrival where over 9.70 lakh metric tonnes of paddy having arrived in the mandis, followed by Kurukshetra with over 9.43 lakh metric tonnes.
(This article was published on December 6, 2013)

Courtesy:http://www.thehindubusinessline.com/news/states/over-54-lakh-mt-paddy-arrives-in-haryana/article5429949.ece

7
Dec

Haryana, paddy arrival, mandis

Over 54 lakh MT paddy arrives in Haryana

Chandigarh, Dec 6: 

Over 54.78 lakh metric tonnes of paddy has so far arrived in various mandis of Haryana during the current procurement season as compared to the arrival of over 52.01 lakh metric tonnes of paddy during the corresponding period last year.

Stating this here on Friday, a spokesman of the Food and Supplies Department said that out of the total arrival, the government agencies have procured over 35.73 lakh metric tonnes of paddy and millers have purchased over 19.05 lakh metric tonnes of the produce.

He said Food and Supplies Department has purchased over 14.45 lakh metric tonnes of paddy, HAFED over 10.20 lakh metric tonnes, Agro Industries Corporation over 5.84 lakh metric tonnes, Haryana Warehousing Corporation over 3.44 lakh metric tonnes, CONFED over 1.65 lakh metric tonnes and Food Corporation of India 13,157 metric tonnes of paddy.

The spokesman said that district Karnal is leading in paddy arrival where over 9.70 lakh metric tonnes of paddy having arrived in the mandis, followed by Kurukshetra with over 9.43 lakh metric tonnes.
(This article was published on December 6, 2013)

Courtesy:http://www.thehindubusinessline.com/news/states/over-54-lakh-mt-paddy-arrives-in-haryana/article5429949.ece

19
Nov

Punjab, Haryana procure 175 lakh tonnes paddy

Nearly 175 lakh tonnes of paddy has been procured in Punjab and Haryana this season, food and civil supplies officials in the two states said Monday.

Of this, nearly 125 lakh tonnes were procured in Punjab while over 50 lakh tonnes were procured in Haryana.

Over 95 percent of the paddy arrivals have been procured by government agencies in Punjab while the rest has been bought by private rice millers and traders.

Sangrur, Ludhiana and Patiala districts in Punjab were leading in paddy procurement, the officials said.

In neighbouring Haryana, nearly 50 lakh tonnes of paddy has so far arrived in the various grain markets, officials said. This is higher than the paddy procurement of 46.74 lakh tonnes in the same period last year.

Government agencies in Haryana have procured nearly 35.5 lakh tonnes paddy this year. The rest has gone to rice millers and traders.

Karnal, Kurukshetra and Kaithal districts of Haryana were leading in paddy arrivals.

Procurement of paddy in both states started Oct 1.

Courtesy : http://www.business-standard.com/article/news-ians/punjab-haryana-procur...

7
Nov

Paddy purchase in Haryana up by 6% so far

CHANDIGARH: Paddy procurement in Haryana has risen by 6 per cent to 41.83 lakh tonnes (LT) in the ongoing procurement season so far.

Last season, 39.40 LT of the crop arrived in the corresponding period.

The government agencies purchased 34.28 LT of paddy, whereas over 7.55 LT of paddy have been purchased by millers, a Food and Supplies Department spokesman said.

He said that Food and Supplies Department has purchased 14.30 LT of paddy, Hafed 9.56 LT, Agro Industries Corporation 5.52 LT, Haryana Warehousing Corporation 3.26 LT, Confed 1.5 LT and Food Corporation of India had purchased 11,380 tonnes.

Courtesy : http://economictimes.indiatimes.com/news/economy/agriculture/paddy-purch...

31
Oct

मंडी में 4917 टन धान की आवक

जागरण संवाद केंद्र, रोहतक : जिला की रोहतक स्थित अनाज मंडी में 29 अक्टूबर तक धान की 4917 टन आवक हुई है, जिसमे बासमती 3457 टन तथा सरबती 1460 टन है। इसके अलावा मंडी में बाजरे की 983 मीट्रिक टन आवक हुई है। उपायुक्त डॉ. अमित कुमार अग्रवाल ने बताया कि व्यापारियों द्वारा बासमती धान 3400 से 3851 रुपये प्रति क्विंटल की दर से तथा सरबती धान 2280 से 2391 रुपये प्रति क्विंटल के हिसाब से खरीदी गई। उन्होंने बताया कि व्यापारियों द्वारा बाजरा 1080 से 1155 रुपये प्रति क्विंटल की दर से खरीदा गया। प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार रोहतक की मंडी में 29 अक्टूबर को 977 टन धान की आवक दर्ज की गई है। इससे पहले तक अनाज मंडी में धान की कुल 3940 आवक हुई थी। इसी प्रकार जिला की रोहतक स्थित मंडी में 29 अक्टूबर को बाजरे की नौ टन आवक दर्ज की गई और इससे पहले तक मंडी में बाजरे की 974 टन आवक हुई थी।

महम में धान की खरीद शुरू, किसानों में खुशी

महम : अनाज मंडी में धान की खरीद आरंभ की गई है। खरीद होने पर इलाके के किसान बेहद खुश है। धान की फसल बेचने के लिए अब किसानों को कई प्रकार की कठिनाई से निजात मिल गई है। पहले किसानों को किराए पर गाड़ियां कर प्रदेश की अन्य मंडियों में धान बेचने जाना पड़ता था। वहा उन्हें कई दिनों तक इंतजार करना पड़ता था।

किसान सुनील कुमार, धर्मसिंह, बलराज, राजेश, तुंगल आदि ने बताया कि शहर की अनाज मंडी में धान की खरीद होने से किसानों का काफी खर्च बच रहा है। यहा पर धान डालने की भी कोई दिक्कत नहीं है। खुला स्थान होने के कारण कहीं पर भी किसान अपना धान डाल सकता है। किसानों का कहना है कि दूसरी मंडियों में अदायगी की भी परेशानी होती थी। यहा के खरीदार कुछ पैसे आवश्यकता अनुसार उसी समय भी दे देते है, बाकी की अदायगी भी 15 दिनों के भीतर देने की बात कही जा रही है ।

23 साल बाद हुई खरीद

मार्केट कमेटी के लेखाकार नरेंद्र दांगी ने बताया कि किसानों की समस्या को देखते हुए हलका विधायक आनंद सिंह दांगी के प्रयास से धान की खरीद फिर से शुरू की गई है। उन्होंने बताया कि धान खरीदने के लिए जुलाना, भिवानी, जींद व रोहतक की मंडियों से खरीददार पहुंचे हुए है, जो किसानो की धान बिना किसी परेशानी से खरीद रहे है। प्रशासन द्वारा किसानों के लिए मंडी में पानी की विशेष सुविधा की गई है। किसानों को अदायगी के लिए भी परेशानी नहीं होने दी जाएगी।

Courtesy : http://www.jagran.com/haryana/rohtak-10833441.html

25
Oct

Rice procurement unaffected by delayed rains

Rice procurement in Haryana and Punjab is in full swing, belying apprehensions of weak procurement due to delayed rains.

Haryana and Punjab begin harvesting rice before other states. This season, half the procurement in Punjab has already been completed.
Despite adverse weather conditions in certain parts of the country, rice procurement hasn't been hit, at least in the initial phase. Though procurement was delayed by two-three weeks in states in east and south India, owing to delayed rains, the yield wasn't affected.

For this financial year, the Centre has pegged paddy procurement at 51.3 million tonnes (mt). According to Food Corporation of India (FCI) estimates, about 8.1 mt of paddy has been procured in the initial phase.

An FCI source said floods in Odisha might affect procurement of the crop in that state. He added the estimates provided by state food secretaries were conservative ones and procurement in states that saw normal weather conditions might exceed these estimates.

Sources in the Central Rice Research Institute said long-duration varieties of the crop would recover from the floods, adding significant damage to the crop was unlikely.

On Thursday, a central team assessed the discoloration and damage to the crop in Punjab, owing to the delayed rains. The team would give its report in three-four days, FCI sources said

Courtesy : http://smartinvestor.business-standard.com/market/Marketnews-206649-Mark...

3
Oct

Over 75K tonne paddy arrives in Haryana

Chandigarh, Oct 2:  Mandis in Haryana saw the arrival of 75,971 tonnes of paddy on the first day of procurement of paddy during current season. Last year 19,835 tonnes of paddy had arrived on the first day of procurement.

A spokesman of the Food and Supplies Department said here on Wednesday that out of the total arrival of the crop yesterday, 74,014 tonnes has been purchased by the government agencies and the rest 1,957 tonnes of paddy has been purchased by the millers.

Out of the total paddy purchased by the government agencies, Food and Supplies Department has purchased 31,912 tonnes of paddy, HAFED 20,064 tonnes, Agro Industries Corporation 11,192 tonnes, Haryana Warehousing Corporation 3,627 tonnes and CONFED had purchased 7219 tonnes, he added.

He said district Kurukshetra was leading in paddy arrival, where 45,309 tonnes of the crop had arrived in the mandis, followed by Karnal with 15,797 tonnes. District Ambala ranked third, where 13,120 tonnes of paddy had arrived in the mandis, whereas in district Kaithal 965 tonnes had arrived.

Courtesy : http://www.thehindubusinessline.com/industry-and-economy/agri-biz/over-7...

11
Sep

लीफ ब्लास्ट व भूरा तैला की चपेट में आया धान

भास्कर न्यूज -!- राई
खादर क्षेत्र के किसानों का धान अब लीफ ब्लास्ट एवं भूरा तैला नामक बीमारी की चपेट में आ गया है। धान में आई बीमारी से किसान परेशान हैं। किसानों को धान में स्प्रे कराने के लिए सात सौ से लेकर एक हजार रुपए का अतिरिक्त खर्च वहन करना पड़ रहा है।लीफ ब्लास्ट व भूरा तैला की चपेट में आया धान

खादर के प्रीतमपुरा, खेवड़ा, झुंडपुर, मनौली, सेरसा, जाटी, जाजल, पलड़ी कलां, जाखौली, अटेरना, सेरसा गांव में धान की फसल में लीफ ब्लास्ट व भूरा तैला नामक बीमारी व कीट का प्रकोप है। धान की अगेती फसल में बीमारी आई है। किसानों का कहना है कि इससे पैदावार पर असर पड़ेगा।
यह होती है लीफ ब्लास्ट व भूरा तैला बीमारी : लीफ ब्लास्ट बीमारी में धान के पत्ते पर आंखनुमा धब्बे की तरह से लक्षण दिखाई देते हैं। ये धब्बे बढ़कर पत्तों को सुखा देते हैं। इसी तरह से भूरा तैला फसल के तने में काफी संख्या में लग जाता है। जो तने का रस चूस लेता है और तने को कमजोर कर देता है। इससे तना चिपचिपा दिखाई देता है। भूरा तैला नामक बीमारी को यदि समय रहते नियंत्रण नहीं किया तो पूरे खेत की फसल को जमीन में बिछा देता है। जिससे फसल की पैदावार में काफी नुकसान होता है।
ऐसे करें नियंत्रण : कृषि अधिकारी बोले लीफ ब्लास्ट के लिए प्रति एकड़ 120 एमएल बीम को दो सौ लीटर पानी में मिलाकर स्प्रे करें। भूरा तेला को प्रति एकड़ 300 एमएल नूवान 30 केजी रेत में मिलाकर शाम के समय खेत में छिड़काव करें।

Courtesy : http://www.bhaskar.com/article/MAT-HAR-OTH-c-232-68684-NOR.html

23
Aug

बासमती धान को ऊपर से काटते वक्त रखे समय का ध्यान

जागरण संवाद केंद्र, पानीपत : बासमती धान अधिक बढ़ने पर अधिकांश किसान फसल को ऊपर से काट रहे हैं। ऐसा धान की फसल को गिरने से बचाने के लिए किया जा रहा है। वैसे तो बासमती धान को ऊपर से कटाने से फसल की पैदावार पर कोई असर नहीं पड़ेगा, लेकिन रोपाई के 60 दिनों बाद काटने से नुकसान हो सकता है। ऐसे में बासमती धान की कटाई से पहले विशेषज्ञों की सलाह लेना जरूरी है।

आमतौर पर बासमती धान के पौधे अधिक लंबे हो जाते हैं। धान के पौधे नाजुक होते हैं और थोड़ी सी हवा चलते ही लंबा पौधा गिर जाता है। इसलिए किसान बासमती धान को ऊपर से काट देते हैं, लेकिन पौधों की कटाई करते समय खास बातों पर ध्यान देना बहुत जरूरी है। विशेषज्ञों का मानना है कि यदि बासमती धान के पौधे अधिक लंबे हो जाएं तो रोपाई के 55 से 60 दिनों के अंदर ऊपर से कटाई कर सकते हैं। अगर 60 दिनों के बाद फसल की कटाई करेंगे तो इसका सीधा असर फसल की पैदावार पर पड़ेगा। निर्धारित समय के बाद ऊपर से फसल काटने से पौधे में पत्तों की संख्या कम हो जाएगी, जिससे पौधा पर्याप्त मात्रा में भोजन नहीं बना सकेगा। जब पौधे को पर्याप्त खुराक नहीं मिलेगी तो फसल की पैदावार पर असर पड़ेगा।

कटे हुए पत्ते को पशुओं को न खिलाएं

बासमती धान को ऊपर से कटाने के बाद पशुओं को न खिलाएं। विशेषज्ञों का कहना है बासमती धान के पत्ते नुकीले होते हैं। अगर कटे हुए पत्ते पशु खाएंगे तो पशुओं के मुंह को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इसलिए बासमती धान को ऊपर से काटने के बाद फेंक दें।

समय का ध्यान रखना जरूरी : गर्ग

कृषि वैज्ञानिक डॉ. राजबीर गर्ग का कहना है कि बासमती धान को ऊपर से काटने से पहले समय का ध्यान रखना बहुत जरूरी है। रोपाई के 60 दिनों बाद धान की ऊपर से कटाई करने से फसल की पैदावार पर असर पड़ेगा। इसलिए विशेषज्ञों की सलाह पर ही धान की ऊपर से कटाई करें।

Courtesy : http://www.jagran.com/haryana/panipat-10665320.html

19
Aug

बरसात से धान की फसल की बीमारी हटी

संवाद सहयोगी, ढाड : पिछले कई दिनों से लगातार रुक-रुककर हो रही बरसात किसानों के लिए वरदान साबित हो रही है। बरसात के चलते किसानों के चेहरे खिले हुए हैं। बरसात के कारण काफी समय से धान की फसलों में लगी पत्ता लपेट व गोभ की सूंडी की बीमारी से ¨चतित किसानों को भी राहत मिली है।

खेतों में काफी मात्रा में पानी खड़ा हुआ है और फसलें लहलहा रही है। हालाकि कई किसान ने पत्ता लपेट व गोभ की सूंडी की बीमारी की रोकथाम के लिए स्प्रे करने में लगे हुए थे, लेकिन बरसात के चलते किसानों ने स्प्रे करना बंद कर दिया है। बरसात किसानों के लिए काफी लाभदायक सिद्ध हो रही है, क्योंकि किसानों को फसल में लगी बीमारियों की रोकथाम के लिए अधिक मात्रा में न तो कीटनाशक दवाओं का स्प्रे करना पड़ा और न ही फसलों की ¨सचाई के लिए काफी संघर्ष करना पड़ा। शुरूआत में किसानों को धान की फसल की बिजाई के लिए ¨सचाई करने के लिए काफी मशक्कत का सामना करना पड़ा था, लेकिन समय-बे-समय हो रही बरसात से किसानों को राहत मिली।

किसान भीम ¨सह, कृष्ण श्योकंद, जवाहर मल, राजेंद्र नैन, हुकम चंद, हवा ¨सह सहित कई किसानों ने बताया कि बरसात से जहा पानी का जलस्तर ऊपर उठेगा, वहीं धान की फसलों में लगने वाली बीमारियों से भी किसानों को राहत मिलेगी। बरसात से धान की पैदावार में भी वृद्धि होगी।

कृषि विकास अधिकारी ढाड डॉ. चंद्रप्रकाश ने कहा कि बरसात धान की फसलों के लिए काफी लाभदायक साबित होगी और पैदावार में भी बढ़ोतरी होगी। फसलों में लगी सभी बीमारिया भी दूर हो जाएंगी। किसान फसलों में इस समय ज्यादा मात्रा में पानी न खड़ा करके कम मात्रा में एक इच से ज्यादा पानी खड़ा करे। किसान 21 प्रतिशत वाला आधा किलो जिंक सल्फेट, अढ़ाई किलो यूरिया को 100 लीटर पानी में घोलकर स्प्रे करे, ताकि फसलों में जिंक की कमी दूर हो जाएगी।

Courtesy : http://www.jagran.com/haryana/kaithal-10651792.html

13
Aug

खेतों में जलभराव से बर्बाद हो रही फसल

संवाद सहयोगी, गोहाना : बनवासा व बुटाना के सैकड़ों एकड़ फसल में बारिश का पानी जमा होने से किसानों की फसल बर्बाद होनी शुरू हो गई है। खेतों में जमा पानी की निकासी न होने से किसानों के माथे पर चिंता की लकीर उभर आई है। गाव बनवासा के किसानों ने प्रशासन और सरकार से खेतों में जमा पानी जल्द से जल्द निकासी करने की माग की है।

क्षेत्र में पिछले दिनों हुई बारिश के बाद गाव घड़वाल की तरफ से बारिश का पानी गाव बनवासा के खेतों में आकर जमा हो गया है। इससे बनवासा गाव के किसानों की सौ एकड़ से अधिक फसल जलमग्न हो गई है। धान की फसल तो पानी में डूबी हुई है। पानी भरने से किसानों की धान की फसल के साथ-साथ कपास, ज्वार व गन्ने की फसल बर्बाद हो रही है। किसान रोहताश नरवाल, विकास, राकेश, सतीश, सत्यवान ने बताया कि खेतों में जमा पानी की निकासी छपरा ड्रेन से होती है। यह ड्रेन पुल के नजदीक से टूटी हुई है जिस कारण खेतों में जमा पानी की निकासी सुचारु ढग से नहीं हो पा रही है। पिछले सप्ताह भर से खेतों में पानी जमा है। वहीं बुटाना के खेतों में भी पानी भरा हुआ है। बुटाना निवासी किसान सुरेंद्र, भूप सिंह, आनन्द व ओम सिंह ने बताया कि उनके गांव में करीब सौ एकड़ फसल जलमग्न है। इसका असर अब फसल पर पड़ने लगा है।

ड्रेन की सफाई नहीं होने से गहराई समस्या

गांव बनवासा निवासी किसान रोहताश ने कहा कि छपरा ड्रेन में सफाई का अभाव उनके लिए दिक्कत पैदा कर रहा है। अगर समय पर ड्रेन की सफाई कर दी जाती तो किसानों को कम नुकसान होता। सरकार और प्रशासन को खेतों में जमा पानी की निकासी तुरंत करनी चाहिए। वही बुटाना के किसान राजा ने बताया कि बिचपड़ी वाली ड्रेन में सफाई का अभाव उनके ऊपर कहर बनकर टूटा है। ड्रेन में कई स्थानों पर मिट्टी फंसी है, जिससे पानी निकासी नहीं हो रही।

कपास, ज्वार व गन्ने पर सबसे अधिक असर

किसान राज सिंह, राजेंद्र व कुलदीप ने बताया कि सबसे अधिक असर कपास, ज्वार व गन्ने की फसल पर हुआ है। अगर इसी तरह पानी फसल में खड़ा रहा तो फसल पूरी तरह से बर्बाद हो जाएगी। इससे किसानों को अधिक नुकसान होगा। साथ ही अब तो धान की फसल पर भी पानी का असर पड़ने लगा है। उन्होंने जल्द से जल्द निकासी करवाने की मांग की है।

Courtesy : http://www.jagran.com/haryana/sonipat-10640876.html

3
Aug

Deficit rain may sow crop worries

If there are lesser rains in August and September, trouble could be in store for farmers of Haryana.Officials of the meteorological department said the state, so far, was almost 28% rain deficit this season.

Surender Paul, director of the meteorological department, told Hindustan Times that so far the monsoon had been normal in Punjab and Chandigarh. “But, Haryana is rain deficit by 28%. Some parts of the state are rain deficit by nearly 70%,” he said.

Officials said Chandigarh had received normal rainfall in the first half of monsoon (June-July) at 423.8 mm (actual rain) against normal 394.5mm.

In Punjab, normal rainfall should be 223.3mm and this year actual rainfall in the state has been recorded 236.6mm. But, in Haryana, actual rainfall is 146.5mm against normal 203.4mm, almost 28% less.

“For now, there are no worry signs. We are expecting a normal monsoon season ahead. But, if there are lesser rains, there can be problems for the state farmers,” Paul said.

He said lesser rains have not affected sowing of kharif crops as there was an early onset of monsoon this year, which facilitated the transplantation of paddy and other standing kharif crops.

The meteorological department data shows that while Panipat has been 71% rain deficit, Rohtak is 69%, followed by Sirsa 57% in Haryana.Interestingly, Yamunanagar received 32% more rainfall than the normal.

In Punjab, the meteorological data shows that there has been above-normal rain throughout the state with Gurdaspur receiving highest rainfall, 34% above normal, followed by Ropar receiving 31% above normal.

In the year 2012, the first half of monsoon witnessed 132 mm rains in Haryana, 187 mm in Punjab and 276.2 mm rains in Chandigarh in the months of June and July.

Courtesy : http://www.hindustantimes.com/Punjab/Chandigarh/Deficit-rain-may-sow-cro...

2
Aug

बारिश के बाद धान की रोपाई ने पकड़ा जोर

जागरण संवाद केंद्र, सोनीपत :

जिले में मानसून की बारिश के बाद धान की रोपाई ने जोर पकड़ना शुरू कर दिया है। हालांकि अभी भी गन्नौर व गोहाना में कम बारिश से रोपाई का कार्य अभी उम्मीद के मुताबिक नहीं हो सका है। इससे धान की रोपाई का लक्ष्य अभी पूरा नहीं हो सका है। अभी तक जिले में 65 हजार हेक्टेयर में धान की रोपाई हो सकी है। इसके साथ ही धान की फसल में वर्तमान में जड़ गलन व पत्ता लपेट सुंडी का असर हो सकता है। इसे लेकर कृषि विभाग किसानों को जागरूक कर रहा है।

लक्ष्य के मुकाबले कम हुई है धान की रोपाई

कृषि विभाग ने जिले में धान की रोपाई के लिए 86 हजार हेक्टेयर का लक्ष्य रखा है। इसके एवज में अब तक जिले में 65 हजार हेक्टेयर में रोपाई का कार्य पूरा कर लिया गया है। पिछले एक सप्ताह से हुई बारिश के बाद रोपाई का कार्य तेजी से जारी है। खासकर सोनीपत, राई व खरखौदा क्षेत्र में रोपाई का कार्य तेजी से हुआ है।

गोहाना व गन्नौर में कम बारिश ने बढ़ाई मुश्किल

गन्नौर व गोहाना क्षेत्र में इस मौसम में बारिश काफी कम हुई है। इससे इन क्षेत्रों में रोपाई पर असर पड़ा है। खासकर गन्नौर में तो मात्र नौ एमएम बारिश ही हुई है। इससे यहां रोपाई के कार्य पर काफी असर पड़ा है। हालांकि गोहाना में बुधवार को 58 एमएम बारिश हुई है। इसके बाद से रोपाई का कार्य तेजी से हो रहा है। कृषि विभाग को भी उम्मीद है कि जल्द ही रोपाई का लक्ष्य प्राप्त कर लिया जाएगा।

तीन वर्ष में एक अगस्त तक धान की रोपाई का आंकड़ा

वर्ष रोपाई

2013 65 हेक्टेयर

2012 60 हेक्टेयर

2011 68 हेक्टेयर

बीमारी के प्रति सचेत रहे किसान

धान की रोपाई के बाद अब इसमें जड़ गलन, दीमक व पत्ता लपेट सुंडी की बीमारी आ सकती है। वर्तमान में मौसम के अनुसार इन बीमारियों के फैलने का अंदेशा अधिक है। जिसे लेकर किसानों को इन तीनों बीमारियों के प्रति सचेत रहना चाहिए। इससे बीमारी आने पर समय रहते इसका निवारण किया जा सके।

बीमारी आने पर तुरंत करें उपचार : कुहाड़

जिला कृषि विकास अधिकारी डा.देवेंद्र कुहाड़ कहते हैं कि इस दौरान जड़ गलन, दीमक व पत्ता लपेट सुंडी से बचाव बेहद आवश्यक है। मोनो करोटोफास 300 एमएल को दो सौ लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें और 10 किलो फेनवेल रेट को राख में मिलाकर उसका धुड़ा करें। जिससे फसल को इन बीमारियों से निजात मिल सकेगी।

रोपाई का कार्य पकड़ेगा तेजी : सहरावत

कृषि उपनिदेशक डा.अनिल सहरावत कहते हैं कि विभाग धान की रोपाई के लक्ष्य का आसानी से प्राप्त कर लेगा। गन्नौर व गोहाना में कम बारिश से रोपाई प्रभावित हुई है। हालांकि इस सप्ताह में अच्छी बारिश के संकेत हैं। इससे रोपाई का कार्य तेजी पकड़ेगा।

Courtesy : http://www.jagran.com/haryana/sonipat-10612787.html

19
Jul

वर्षा की कमी का असर दिखने लगा फसलों पर

संवाद सहयोगी, इस्माइलाबाद : पिछले बीस रोज से अच्छी वर्षा न होने और बेतहाशा गर्मी का प्रकोप अब धान की फसल पर दिखाई देने लगा है। अधिक गर्मी के कारण धान की फसल को पानी की कमी का ही सामना नहीं करना पड़ रहा है बल्कि फसल का फलना-फूलना यकायक थम सा गया है। यही नहीं धान पर गर्मी के कारण रोगों का कहर बरप रहा है। बर्षा के सहारे रोपित धान के खेतों में तो दरारे ही पड़ने लगी है। ऐसे में किसानों को पैदावार प्रभावित होने का भय सताने लगा है।

बीते माह मानसून आने का दावा भी महज खोखला ही साबित हुआ। बीते माह के बीच में ही बेहतर बरसात हुई। उस बरसात ने धान का रोपण तेज करवाया। जिसका परिणाम यह रहा है कि महज दस रोज में ही अधिकाश कृषि योग्य भूमि पर धान की फसल लहलहा उठी। अब इस फसल को संभालने में किसानों को सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी ही नहीं मिल पा रहा है। हालाकि किसान ट्यूबवेलों के सहारे फसल को संभालने में जुटे है मगर बिना बरसात की मदद के फसल को बचाए रखना चुनौती साबित हो रहा है। किसान खजान नैन, चंद्रभान सैनी, सुदर्शन नैन, दिलबाग सिंह गोराया और नसीब सिंह शेखों ने बताया कि वर्तमान दौर में बेहतर बरसात न होने से धान के खेतों में दरारे पड़ने लगी है। यही नहीं धान की फसल पीलेपन का शिकार होने लगी है। इन किसानों ने बताया कि इस समय अधिकाश धान की लहलहाती फसल को बरसात के पानी कहीं अधिक आवश्यकता है। किसानों ने बताया कि यदि अगले दस रोज में बेहतर बरसात नहीं हुई तो धान की अधिकाश फसल को बचाना ही मुश्किल हो जाएगा। एक ट्यूबवेल के सहारे दस से बीस एकड़ की खेती करने वाले किसान अधिक परेशानी से जूझ रहे है। ऐसे किसानों ने बताया कि पानी की खपत बढ़ने से ट्यूबवेलों में भी तकनीकी कमिया अधिक होने लगी है। यही नहीं भू जल स्तर भी तेजी से गिर रहा है। ऐसे किसानों ने बताया कि इस समय की बरसात से भूजल स्तर भी बढ़ेगा।

Courtesy : http://www.jagran.com/haryana/kurukshetra-10574231.html

20
Jun

Flash Floods Damage Thousands of Hectares of Paddy Rice Land in North India.

Flash floods have devastated India’s northern states of Uttarakhand, Haryana and Uttar Pradesh, possibly damaging thousands of paddy rice land in the regions affected by heavy and incessant rainfall in the past two days.

Official estimates of the damage to paddy fields are awaited, but local sources say that mud and slush deposits reached up to 2 meters high in some areas and waters washed away houses and cattle of thousands of farmers. Those living along the banks of river Jamuna are the worst affected.

Aromatic rice is grown in Haryana, Uttarakhand and Uttar Pradesh, and officials have to step-up their efforts in rehabilitation of farmers and provide them with the necessary seeds and other inputs to avoid losses this year. Moreover, floods have worsened the labor scarcity problem in the affected states, said sources.

Most of the rice planting in North India is done in July-August, but flooding could increase field preparation work and delay planting this year. However, agriculture officials say that there is enough time to help farmers re-plant their fields and rice production losses would be minimal if the situation improves in the coming days.

Meanwhile, heavy rains damaged standing paddy crop in around 5,000 hectares in the Jeypore region of India’s eastern state of Odisha as well.

Courtesy : http://oryza.com/content/flash-floods-damage-thousands-hectares-paddy-ri...

17
Jun

बारिश से किसान खुश धान की रोपाई हुई शुरू

भास्कर न्यूज-!-अलेवा haryana:

क्षेत्र में शनिवार दोपहर बाद व रात को हुई बारिश के बाद से धान की रोपाई का कार्य जोरों से शुरू हो गया है। अधिकतर किसानों ने बारिश का फायदा उठाते हुए कई एकड़ खेतों में पानी लगाकर धान की रोपाई का कार्यशुरू कर दिया। बारिश से जहां किसानों की फसलों को फायदा मिला, वहीं लोगों को भीषण गर्मी से भी राहत मिली है। किसान बलबीर, जोगिंद्र, कालाराम, जोगिंद्र, कृष्ण, पाला राम, शीशन व सतबीर आदि ने बताया कि बारिश के बाद धान की फसल के लिए ट्यूबवैल चलाकर मात्र घंटा भर में ही पानी भरकर एक एकड़ जमीन तैयार हो जाती है।
धान की रोपाई के लिए किसान पिछले कई दिनो से बारिश की बाट जो रहे थे। उन्होंने बताया कि बारिश के बाद से क्षेत्र के बीघाना, दुड़ाना, कटवाल व अलेवा समेत कई गांवों के किसानों ने धान की रोपाई का कार्य शुरू कर दिया है।

Courtesy : http://www.bhaskar.com/article/MAT-HAR-OTH-c-85-307834-NOR.html

10
Jun

Punjab, Haryana to cut paddy acreage

 Chandigarh, June 9:  With Punjab and Haryana looking to diversify into other crops, both the States aim to reduce acreage under water-guzzling paddy by 1.65 lakh hectares during the current kharif season.

With Punjab laying thrust on crop diversification, the State has cut down the target for area under paddy by one lakh hectares to 27.50 lakh hectares for the current sowing season from last year’s 28.45 lakh hectares.

“As farmers are being encouraged to diversify into other crops, we are targeting 27.50 lakh hectares under paddy crop for current kharif season, which is almost one lakh hectare less than what farmers actually brought in last year,” said a senior official of Punjab Agriculture department.

The neighbouring State of Haryana has set a target to sow paddy over 11.50 lakh hectares in the current sowing season as against an area of 12.15 lakh hectares last year.

Courtesy : http://www.thehindubusinessline.com/news/states/punjab-haryana-to-cut-pa...

30
May

वैज्ञानिक तरीके से उगाएं बासमती धान : सेतिया

जागरण संवाद केंद्र, पानीपत : ऊझा गांव के कृषि विज्ञान केंद्र में बुधवार को बासमती धान पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। इसका उद्देश्य बासमती धान का निर्यात बढ़ाने के लिए उत्तम किस्म की बासमती पैदा करना था। केंद्र प्रभारी डॉ. आजाद सिंह दहिया ने कहा है कि किसान रसायनों का बेतहासा प्रयोग करते हैं, जिससे धान में घातक रसायन के अंश चले जाते हैं। यह अंश अंतरराष्ट्रीय मानकों से अधिक होता है इसलिए हमारा चावल अंतरराष्ट्रीय बाजार में अपनी जगह नहीं बना पाता है। उन्होंने धान की फसल में आने वाली बीमारियां व उनकी रोकथाम के बारे में बताया।

चावल निर्यात समूह के विजय सेतिया ने कहा कि किसान बासमती धान की खेती वैज्ञानिक तरीके से करें। धान में आवश्यकता अनुसार ही रसायनों का प्रयोग करना चाहिए। सरकार व निर्यातक बासमती धान के एक्सपोर्ट को बढ़ावा देने के लिए प्रयासरत हैं। बासमती निर्यात विकास प्रतिष्ठान के वैज्ञानिक डॉ. रितेश ने बताया कि बासमती चावल के निर्यात की अपार की अपार संभावनाएं हैं। इसके लिए किसानों का सहयोग बहुत जरूरी है। कार्यशाला के संयोजक डॉ. राजबीर गर्ग ने किसानों को बासमती धान उगाने की उत्तम शस्य क्रियाओं से अवगत कराया। उन्होंने कहा कि बासमती धान प्राकृतिक संसाधनों की सुरक्षा करती है। डॉ. गर्ग ने धान के हर पहलू पर अपना शोध पत्र प्रस्तुत किया और धान की सीधी बिजाई की जानकारी दी। मृदा वैज्ञानिक डॉ. हरिराम मलिक ने बासमती धान में जल व पोषक तत्वों के प्रबंधन से अवगत कराया। कार्यक्रम के अंत में डॉ. सुरेश फौर ने अतिथियों का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर राजेंद्र रावल, वजीर, प्रीतम सिंह, रमेश, बलबीर, अजीत, सतबीर व वेद सैनी आदि उपस्थित रहे।

Courtesy : http://www.jagran.com/haryana/panipat-10434355.html

7
May

समय से पहले न लगाएं धान की नर्सरी : चमन

संवाद सहयोगी, गोहाना : कृषि विभाग की तरफ से गाव भावड़ में किसानों को धान की फसल की समय पर रोपाई करने को लेकर जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। इस दौरान किसानों को 15 मई से पहले धान की पौध नहीं लगाने का अनुरोध किया गया। साथ ही किसानों को गेहू की फसल की फास जलाने से होने वाले नुकसान के प्रति भी जागरूक किया।

सोमवार को आयोजित जागरूकता शिविर में कथूरा खंड के कृषि अधिकारी डा. चमन सिंह ने कहा कि पानी के अधिक दोहन के चलते भूमिगत जलस्तर लगातार गिरता जा रहा है। उन्होंने कहा कि यह पूरे राष्ट्र के लिए चिंता का विषय है। ऐसी स्थिति में किसान जागरूक होकर जल स्तर में सुधार लाने में अपना योगदान दें। उन्होंने कहा कि अगर किसान समय से पहले धान की फसल की रोपाई करेगे तो फसल सींचिने के लिए अधिक पानी की जरूरत पड़ेगी। धान की फसल की टयूबवेल से सिंचाई करने पर भूमिगत जल पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। इससे जल स्तर और भी घटेगा। उन्होंने किसानों से कहा कि वे धान की पौध की 15-20 मई के बीच रोपाई करे। जब धान की पौध तैयार होगी उस समय बारिश का मौसम भी शुरू हो जाएगा और किसानों को धान की रोपाई में लाभ मिलेगा। डा. राजीव ने किसानों को खेत में ही गेहू के फास जलाने से होने वाले नुकसान के प्रति जागरूक किया। उन्होंने कहा कि फास जलाने से भूमि का तापमान बढ़ जाता है और उससे जमीन में किसान के मित्र कीट नष्ट हो जाते है। जमीन की उर्वरा शक्ति भी कमजोर पड़ती है। फास जलाने से वातावरण दूषित होता है और किसानों पर कार्रवाई भी हो सकती है। शिविर में डा.राकेश श्योराण ने भी फसल के बारे में किसानों को उचित दिशा निर्देश बताए।

Courtesy : http://www.jagran.com/haryana/sonipat-10365967.html

2
Apr

Rice rules steady ; brokens may rise

Courtesy : The Hindu Business Line News Paper Dt - 01.04.2013

Syndicate content
Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies