Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

Production Know How

Production Know How
22
Sep

राइस गन्धी कीट का रासायनिक नियंत्रण

1. मोनोक्रोटोफास Monocrotophos 36 WSC @ 1500 मिली/हेक्टेयर अथवा

• एनडोसल्फान Endosulfan 35 EC @ 1500 मिली/हेक्टेयर अथवा

• कार्बारिल Carbaryl 50 WP @ 1500 ग्राम/हेक्टेयर दोपहर के समय छिड़काव करें।

2. मलाथियों Malathion या कार्बारिल Carbaryl @ 30 किग्रा फॉर्मुलेशन/हेक्टेयर का धूल छिड़कें।

File Courtesy: 
IPM –NCIPM निबन्ध
22
Sep

गन्धी कीट का वर्गीकरण ( Leptocorisa oratorius)

वर्ग       :  इंसेक्टा Insecta

क्रम       :  हेमिपटेरा Hemiptera 

फैमिली  :  एलीडीडे Alydidae 

जीनस    :  लेपटोकोरिसा Leptocorisa 

स्पीसीज  :   ओरटोरियास oratorius

 

 

File Courtesy: 
फील्ड रेडी रेकनर
22
Sep

लीफ फोल्डर का रासायनिक नियंत्रण

मोनोक्रोटोफास Monocrotophos 36 WSC @ 850  मिली/हेक्टेयर अथवा 

क्लोर्पैरिफोस Chlorpyriphos 20 EC @ 1500  मिली/हेक्टेयर अथवा

कार्टाप Cartap 50 WP @ 600  ग्राम/हेक्टेयर अथवा

क्वीनालफास Quinalphos 25 EC @ 1200  मिली/हेक्टेयर अथवा

एसीफेट Acephate 50 WP @ 700  ग्राम/हेक्टेयर अथवा

फिप्रोनिल Fipronil 5 SC @ 600  मिली/हेक्टेयर अथवा

फोसलों Phosalone 35 EC @ 850  मिली/हेक्टेयर अथवा

कार्बारिल Carbaryl 50 WP @ 900  ग्राम/हेक्टेयर अथवा

त्रयाजोफोस Triazophos 40 EC @ 400 मिली/हेक्टेयर छिड़काक करें अथवा  

File Courtesy: 
IPM –NCIPM निबन्ध
22
Sep

लीफ फोल्डर का जैव नियंत्रण

1. एग पैरासिटॉइड का अत्यधिक उत्सर्जन होने पर, Trichogramma chilonis 5 से 6 बार @ 1,00,000 वयस्क प्रति हेक्टेयर की दर से रोपण के 15 दिनों बाद प्रयोग करें।

2. वर्षा और परभक्षी चींटियों से बचाव के लिए बांस के खूंटे से बंधे छोटे छिद्रित पॉलिथीन आवरणों में अंडे वाले पत्तों को रखा जा सकता है।

File Courtesy: 
IPM –NCIPM निबन्ध
22
Sep

लीफ फोल्डर का कल्चरल नियंत्रण

1. अगात रोपण द्वारा पत्ते की क्षति से बहुत हद तक बचा जा सकता है।

2. पौधों के बीच अधिक दूरी और नाइट्रोजनी ऊर्वरक के कम प्रयोग से पत्ते की क्षति को कम किया जा सकता है।

File Courtesy: 
IPM –NCIPM निबन्ध
22
Sep

लीफ फोल्डर का प्रबन्धन, लीफ फोल्डर के प्रति प्रतिरोधी पौधे

 

File Courtesy: 
http://www.ncipm.org.in/agroweb/index.aspx
22
Sep

लीफ फोल्डर द्वारा हुई क्षति की प्रकृति और लक्षण

1. लार्वा भोजन करने से पहले, पत्ते को लंबवत रूप से मोड़ते हैं और पत्ते के किनारे को सिल्क जैसे धागों से सिलते हैं। 

2. लार्वा हरे मेसोफिल को कुतरकर खाते हैं जिसके परिणामस्वरूप मद्धिम सफेद रेखा उभर आते हैं। दूसरे इंस्टर से, जब लार्वा नियमित रूप से पत्तों को लपेटते हैं वे निर्जन हो जाते हैं।    

File Courtesy: 
IPM –NCIPM निबन्ध
22
Sep

लीफ फोल्डर का जीवनचक्र

C.

File Courtesy: 
IPM –NCIPM निबन्ध
22
Sep

लीफ फोल्डर की जैवपारिस्थितिकी

1. नाइट्रोजन के आगमन से पहले की प्रतिक्रियाशील उच्च पैदावार

वाली किस्मों के लिए, यह कीट चावल की अधिकतर खेतों में छिट-फुट पाया जाता था।  

2. नई सिंचाई पद्धति, एक से अधिक चावल की फसलें, ऊंची पैदावार वाली किस्मों तथा नाइट्रोजनी ऊर्वरक की अधिकता के फलस्वरूप चावल के क्षेत्रों में वृद्धि के साथ-साथ कीटों ने भी अब बढ़ती अवस्था को प्राप्त कर लिया है। 

File Courtesy: 
IPM –NCIPM निबन्ध
Image Courtesy: 
फील्ड रेडी रेकनर
22
Sep

लीफ फोल्डर का प्रसार (Distribution of Leaf Folder)

वर्तमान में, तीन स्पीसीज Cnaphalocrocis medinalis, Marasmia patnalis तथा M.exigua भारत में प्रबल है जबकि C. medinalis को खेतों में मौजूद एकल लीफ फोल्डर कीट के रूप में स्वीकार कर लिया गया है।

File Courtesy: 
IPM –NCIPM निबन्ध
22
Sep

फील फोल्डर का वर्गीकरण ( cnaphalocrocis medinalis)

वर्ग         :   इंसेक्टा Insecta

क्रम         :   लेपिडोपटेरा Lepidoptera 

फैमिली    :   पईरालीडे Pyralidae

जीनस      :   नेफलोक्रोसिस Cnaphalocrocis 

स्पीसीज    :   मेडीनालिस medinalis  

 

File Courtesy: 
फील्ड रेडी रेकनर
22
Sep

प्लांट होपर का रासायनिक नियंत्रण

•कार्बारिल carbaryl 50 WP  @  1500 ग्राम/हे. अथवा  

•मोनोक्रोटोफास Monocrotophos 36 WSC @ 1500 मिली/हेक्टेयर अथवा  

•बी.पि.एम्.सी BPMC 50 EC @ 1000  मिली/हेक्टेयर अथवा

•एसीफेट Acephate 50 WP @ 1200  ग्राम/हे. अथवा  

•फिप्रोनिल Fipronil 5 SC  @ 1000  मिली/हेक्टेयर अथवा

•इमिडाक्लोप्रिड Imidacloprid 200 SL @ 125  मिली/हेक्टेयर अथवा

•इतोफेनप्रोक्स Ethofenprox 10 EC @ 750  मिली/हेक्टेयर अथवा

•थयामिथोक्साम Thiamethoxam 25 WG @ 100  ग्राम/हे. अथवा  

File Courtesy: 
IPM –NCIPM निबन्ध
22
Sep

प्लांट होपर का जैविक नियंत्रण

 

File Courtesy: 
http://www.ncipm.org.in/agroweb/index.aspx
22
Sep

प्लांट होपर का जैविक नियंत्रण

1.एग पैरासिटॉइड : 

अनाग्रस स्पिशिस Anagrus sp, 

गोनाटोसिरस स्पिशिस Gonatocerus sp., 

ओलिगोसीटा स्पिशिस Oligosita spp., 

2.नवजात/वयस्क पैरासिटॉइड्स : 

हप्लोगोनाटोपस स्पिशिस Haplogonatopus sp., 

एक्थ्रोडेलफाक्स फेयिर्चिळडी Ecthrodelphax fairchildii., 

एलेंकास स्पिशिस Elenchus sp (Sterpsiptera), 

हेक्समार्मिस स्पिशिस Hexamermis sp (Mermithid). 

 

File Courtesy: 
http://www.ncipm.org.in/agroweb/index.aspx
22
Sep

प्लांट होपर का कल्चरल नियंत्रण

1. नाइट्रोजनी ऊर्वरक की ऊंची खुराक, निकट-निकट पौधे, और उच्च सापेक्षिक आर्द्रता से प्लांट होपर की जनसंख्या में वृद्धि होती है।  

2. चावल की खेतों से जल को बहाने से प्रारंभिक स्तर पर पर्याक्रमण को प्रभावी रूप से कम किया जा सकता है। जब भारी पर्याक्रमण हो तो खेत से 3 - 4 दिनों तक जल निकास करें।    

3. मुख्य खेत में संकरा रास्ता बनाएं। मुख्य खेत में संकरे रास्ते के प्रावधान के लिए प्रत्येक 2 मीटर के रोपण के बाद 30 सेमी का अंतराल रखें। 

 

File Courtesy: 
IPM –NCIPM निबन्ध
22
Sep

प्लांट होपर का प्रबन्धन, प्लांट होपर के प्रति प्रतिरोध

प्लांट होपर का प्रबन्धन

राइस प्लांट होपर के प्रबन्धन में शामिल है कल्चरल, होस्ट प्लांट रेसिस्टेंट, जैविक तथा रासायनिक विधियां।

ग्रीन लीफ होपर के प्रति प्रतिरोधी चावल की किस्मों की सूची दी जा रही है:

File Courtesy: 
IPM –NCIPM निबन्ध
22
Sep

प्लांट होपर द्वारा हुई क्षति की प्रकृति

1. वे चावल की फसल के सभी चरणों में हानि पहुंचाते हैं। वयस्क और नवजात दोनों टिलर के आधार भाग से रस चूसते हैं जिसके परिणामस्वरूप पौधे पीले पड़ जाते हैं और सूख जाते हैं।  

2. फ्लोएम फीडर होने के कारण पौधे के रस से ट्रांसलोकेटिंग पोषण नष्ट हो जाता है जिसके परिणामस्वरूप पौधों में संपोषण और भंडरण के लिए उपलब्ध कुल प्रकाशसंश्लेषण की क्षमता क्षीण हो जाती है। 

3. शुरुआती अवस्था में, गोल चित्ती दिखाई पड़ती है जो जल्द ही पौधे के सूख जाने के कारण भूरे रंग का हो जाता है।  

File Courtesy: 
IPM –NCIPM निबन्ध
22
Sep

प्लांट होपर का जीवनचक्र

मादा कीट 300-350 अंडे देती है और मैक्रोप्टेरस मादा कम अंडे देती है।

File Courtesy: 
IPM –NCIPM निबन्ध
Image Courtesy: 
फील्ड रेकनर
22
Sep

भूरे रंग के प्लांट होपर का कीट-व्यवहार

•वयस्क ब्राउन प्लांट होपर दोनों रूप में होते हैं, जिसके पूर्ण डैने वाले मैक्रोप्टेरस तथा कटे हुए डैने वाले ब्रेकिपेरस रूप में होते हैं। 

•मैक्रोप्टेरस संभावित प्रवासी होते हैं और नए खेतों में घर बनाने के लिए जिम्मेदार होते हैं। चावल के पौधों पर प्रवास कर लेने के बाद, वे अपने अगली पीढ़ी को जन्म देते हैं जहां लगभग सभी मादा पंख रहित होती है और नरों के पंख होते हैं।  

•वयस्क कीट उद्भव के दिन ही संभोग करते हैं और मादा कीट संभोग के दिन से ही अंडे देना आरंभ कर देती है। 

 

 

 

 

 

File Courtesy: 
IPM –NCIPM निबन्ध
22
Sep

प्लांट होपर की जैव-पारिस्थितिकी

1. इन होपरों के विकास में तापमान निर्णायक भूमिका निभाता है। भ्रूणीय और पश्च-भ्रूणीय विकास के लिए थ्रेशोल्ड तापमान क्रमश: 10.8oC और 9.8oC है।  

2. ऊष्ण और आर्द्र जलवायु में प्लांट होपर्स सक्रिय रहते हैं और उनकी संख्या भोजन की उपलब्धता, प्राकृतिक शत्रुओं की गतिविधि आसपास हो रहे अन्य पर्यावरणीय कारकों के आधार पर घटते-बढ़ते रहते हैं।   

3. लार्वा के चरण में क्राउडिंग और कीट खाद्य की गुणवत्ता तथा मात्रा में कमी  मैक्रोप्टेरी       (macroptery) को प्रेरित करता है।  

पारासिटॉइड (Parasitoids):  

File Courtesy: 
IPM –NCIPM निबन्ध
Syndicate content
Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies