Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

Growth & Development

Growth & Development
14
Sep

पेग टूथ हैरो

1. पेग टूथ हैरो का इस्तेमाल कीचड़ बनाने और समतलीकरण जैसे

द्वितीयक कार्यों में पशुओं और दो पहियों वाले ट्रैक्टर के साथ किया जाता है।

2. हैरो की चौड़ाई पशुओं की संख्या और ट्रैक्टर के इंजन की ताकत के अनुसार होती है लेकिन ये हैरो मिट्टी की स्थिति के अनुसार 1 से 2 मीटर की साइज में होते हैं।

3. हैरो के दांत या पेग लकड़ी के बने होते हैं लेकिन आधुनिक किस्म स्टील के बने होते हैं।

4. परिचालन कोण के द्वारा अग्रघर्षण की तीव्रता निर्धारित होती है।

File Courtesy: 
DRR ट्रेनिंग मैनुअल
Image Courtesy: 
DRR ट्रेनिंग मैनुअल
14
Sep

डिस्क कल्टीवेटर

1. डिस्क कल्टीवेटर का इस्तेमाल चार पहियों के ट्रैक्टर के साथ किया जाता है 

और यह तवों के दो या चार कतारों का बना होता है।

2. इस कल्टीवेटर के तवे एक ही ओर स्थित तवे वाले या ऑफसेट हल के छोटे होते हैं और यह कल्टीवेटर काफी हलका होता है।

3. अग्रघर्षण की तीव्रता आगे की ओर गति के सापेक्ष गैंग एंगल द्वारा निर्धारित होता है।

File Courtesy: 
DRR ट्रेनिंग मैनुअल
Image Courtesy: 
DRR ट्रेनिंग मैनुअल
14
Sep

हैरो की क्रिया

1. दो पहियों वाले ट्रैक्टर की प्रणाली में मोल्डबोर्ड, तवा और रोटोवेटर का 

इस्तेमाल द्वितीयक जुताई के लिए किया जाता है।

2. कुछ परिस्थितियों में यदि रोटोवेटर उपलब्ध नहीं हों तो पेग टूथ हैरो का भी इस्तेमाल किया जाता है।

3. खेत में कीचड़ तैयार करने के दौरान बेहतर कर्षण के लिए ट्रैक्टर के पहियों में केज ह्वील की आवश्यकता होती है।

File Courtesy: 
CRRI
Image Courtesy: 
CRRI
14
Sep

द्वितीयक जुताई के उपकरण

द्वितीयक जुताई के उपकरण हैं:

1. कल्टीवेटर

2. हैरो

3. स्पाइक टूल हैरो

4. चेन हैरो

5. तवे वाला हैरो

6. इंटर-कल्टीवेटिंग हैरो

File Courtesy: 
CRRI
14
Sep

द्वितीयक जुताई

1. द्वितीयक जुताई के उपकरणों का इस्तेमाल खेत के ढेले फोड़ने के लिए और मिट्टी को ढीली, भुरभुरी और मुलायम बनाने में किया जाता है।

2. द्वितीयक जुताई ढेलों को फोड़ने, मिट्टी को मिलाने और मिट्टी में सूखे हुए घासफूस को मिलाने के लिए किया जाता है। इससे मिट्टी में खाद मिलाने और बीजों को ढकने का भी काम होता है।

File Courtesy: 
RARS, करजत
14
Sep

टाइन्ड प्लाउ (कांटेदार हल)

1. टाइन्ड प्लाउ सबसे अधिक बहुपयोगी प्राथमिक जुताई उपकरण है क्योंकि उनका इस्तेमाल द्वितीयक जुताई के लिए किया जा सकता है और साथ ही यह सीड ड्रिल के रूप में भी प्रयुक्त होता है।

2. इसका इस्तेमाल केवल सूखी स्थिति में ही किया जा सकता है क्योंकि यह मिट्टी को पलटने की बजाए उसे चीरता है। यह खरपतवार को नोंच कर उन्हें सतह पर लाता है।

3. टाइन में विभिन्न साइज के फाल या स्वीप लगाए जा सकते हैं। स्वीप की चौड़ाई 50 मिमि से 500मिमि तक हो सकती है।

4. ये हल ऐसी परिस्थितियों में व्यापक रूप से काम में लाए जाते हैं जहां अवशेषों को सतह पर ही छोड़ देने की जरूरत होती है।

File Courtesy: 
CRRI
Image Courtesy: 
CRRI
14
Sep

विंग टाइप सब-सॉइलर

1. विंग टाइप सब-सॉइलर (पंतनगर डिजायन) में एक आयताकार फ्रेम,

बदले जा सकने योग्य शिन वाला एक मेन स्ट्रेट टाइन, बदला जा सकने वाला पांव और दो मुख्य टाइन होते हैं।

2. Performance test of this sub-soiler has shown maximum soil disturbance, about 3 times more, compared to the conventional curved leg type sub-soiler. इस सब सॉइलर के निष्पादन परीक्षण में यह पाया गया कि यह पारंपरिक मुड़े हुए पांव वाले सब-सॉइलर की तुलना में अधिकम मृदा विक्षोभ उत्पन्न करता है।

File Courtesy: 
CRRI
Image Courtesy: 
CRRI
14
Sep

सब-सॉइलर प्लाउ

1. सब-सॉइलर का इस्तेमाल मिट्टी आमतौर पर 60-70 सेमी की 

गहराई तक मिट्टी को उलटने-पलटने में किया जाता है।

2. इस हल में सीधा या मुड़ा हुआ एकल फाल होता है और इसे 45एचपी या उससे अधिक ताकत वाले ट्रैक्टर से खींचा जा सकता है।

File Courtesy: 
CRRI
Image Courtesy: 
CRRI
14
Sep

ऑफसेट डिस्क प्लाउ(तवे वाला ऑफसेट हल)

1. जैसा कि नाम दर्शाता है यह तवे वाला हल है जो ट्रैक्टर द्वारा ऑफसेट

रूप से परिचालित किया जाता है।

2. इस हल में चार से लेकर 24 तवे दो कतारों में लगे होते हैं। प्रत्येक कतार का अपना एक कॉमन सेंटर बोल्ट होता है और विभिन्न दिशाओं में मिट्टी फेंकता है।

3. इन हलों का इस्तेमाल केवल चार पहियों वाले ट्रैक्टर में किया जाता है और यह ऑफसेट हल किसी भी जुताई पैटर्न में परिचालित किया जा सकता है।

4. ऑफसेट हल 3 प्वाइंट लिंकेज माउंटेड अथवा ट्रेलिंग प्रकार का हो सकता है।

File Courtesy: 
CRRI
Image Courtesy: 
CRRI
14
Sep

एक ही ओर स्थित तवे वाले हल

1. एक ही ओर स्थित तवे वाले हल का इस्तेमाल एशिया में दो और 

चार पहियों वाले ट्रैक्टरों में किया जाता है।

2. शक्तिश्रोत के अनुसार तवों की संख्या और साइज अलग-अलग होते हैं।

3. दो पहियों वाले ट्रैक्टर में 2 या 3 तवे वाले हल का इस्तेमाल किया जाता है जबकि चार पहिए वाले ट्रैक्टर में 3, 4 या 7 तवे वाले हल का इस्तेमाल होता है।

File Courtesy: 
CRRI
Image Courtesy: 
CRRI
14
Sep

मोल्डबोर्ड हल

1. मोल्डबोर्ड हल भारत में पशुओं द्वारा या दो पहियों 

वाले ट्रैक्टर द्वारा खींचा जाता है।

2. मोल्डबोर्ड के फालों की संख्या और साइज पावर श्रोत के आधार पर भिन्न-भिन्न होते हैं।

3. जानवरों द्वारा आमतौर पर एक फाल वाले हल खींचा जाता है। दो पहियों वाले ट्रैक्टर द्वारा 1 या 2 फाल वाला और चार पहियों वाले ट्रैक्टर द्वारा 3-4 फाल वाला हल खींचा जाता है।

4. मोल्डबोर्ड हल मिट्टी को घास सहित पूरी तरह उलट कर रख देता है और मिट्टी में अपने खुदाई वाले धार के हिसाब से धंसता है।

File Courtesy: 
CRRI
Image Courtesy: 
CRRI
14
Sep

खेत को लेसर-लेवल कैसे करें

1. लेसर लेवलिंग के लिए खेत के ऊंचे स्थान से मिट्टी को सबसे किफायती तरीके से खिसकाकर खेत के निचले हिस्से की ओर लाना होता है।

2. ज्यादातर परिस्थितियों में, खेत को लेवल करने से पहले जोतना पड़ता है और स्थलाकृतिक सर्वे करना पड़ता है।

File Courtesy: 
http://www.knowledgebank.irri.org/landprep/index.php/laser- leveling-mainmenu-84/how-to-laser-level-land-mainmenu-99
14
Sep

लेसर बकेट के लिए कंट्रोल पैनल

1. कंट्रोल बॉक्स द्वारा मशीन माउंटेड रिसीवर के सिग्नल एक्सेप्ट और 

प्रोसेस किए जाते हैं। फिनिश्ड ग्रेड के सापेक्ष ड्रैग बकेट की स्थिति को दर्शाने के लिए यह इन सिग्नलों को डिस्प्ले करता है

2. जब कन्ट्रोल बॉक्स को स्वचालित मोड पर सेट किया जाता है तब यह हाइड्रॉलिक वाल्व के ड्राइविंग के लिए इलेक्ट्रिकल आउटपुट प्रदान करता है।

3. कंट्रोल बॉक्स ट्रैक्टर पर ऑपरेटर की आसान पहुंच में होता है।

File Courtesy: 
http://www.knowledgebank.irri.org/landprep/index.php/laser- leveling-mainmenu-84/laser-controlled-land-leveling-systems-mainmenu-90/67-control-panel
Image Courtesy: 
CRRI
14
Sep

लेसर लेवलिंग के लिए लेसर रिसीवर

1. लेसर रिसीवर अनेक दिशाओं में काम करने वाला रिसीवर होता है 

जो लेसर रेफरेंस प्लेन की स्थिति को रिसीव करता है और इन सिग्नलों को कंट्रोल बॉक्स को ट्रांसमिट करता है।

2. मैनुअल या विद्युतीय दंड पर लगा रिसीवर ड्रैग बकेट से जुड़ा होता है।

File Courtesy: 
http://www.knowledgebank.irri.org/landprep/index.php/laser-l eveling-mainmenu-84/laser-controlled-land-leveling-systems-mainmenu-90/65-laser-transmitter
Image Courtesy: 
CRRI
14
Sep

लेसर लेवलिंग के लिए लेसर ट्रांसमिटर

1. लेसर ट्रान्समिटर एक ट्राइपोड पर स्थित होता है जो लेसर बीम को 

ट्रैकटर के ऊपर से गुजरने देता है।

2. खेत के ऊपर प्रकाश के समतल के साथ कई ट्रैक्टर एक ट्रांसमिटर से काम कर सकता है।

File Courtesy: 
http://www.knowledgebank.irri.org/landprep/index.php/laser-l eveling-mainmenu-84/laser-controlled-land-leveling-systems mainmenu-90/65-laser-transmitter
Image Courtesy: 
CRRI
14
Sep

लेसर लेवलिंग के लिए ड्रैग बकेट

1. लेवलिंग बकेट या तो 3 प्वाइंट लिंकेज माउंटेड होता है या फिर यह 

ट्रैक्टर के ड्रॉबार द्वारा खींचा जाने वाला होता है।

2. पुल टाइप सिस्टम को अधिक पसंद किया जाता है क्योंकि ट्रैक्टर के हाइड्रॉलिक सिस्टम को एक्सटर्नल हाइड्रॉलिक रैम के साथ जोड़ना अधिक आसान होता है।

3. 3 प्वाइंट लिंकेज सिस्टम द्वारा इंटर्नल कंट्रोल सिस्टम का इस्तेमाल।

4. उपलब्ध पावर श्रोत और खेत की स्थिति के अनुसार बकेट का डाइमेंसन और उसकी क्षमता भिन्न-भिन्न होते हैं।

File Courtesy: 
http://www.knowledgebank.irri.org/landprep/index.php/laser-leveling-mainmenu-84/laser-controlled-land-leveling-systems-mainmenu-90/64-drag-bucket
Image Courtesy: 
Dr. RM. Kumar, DRR
14
Sep

लेसर लेवलिंग के लिए हल का इस्तेमाल

1. समतलीकरण से पहले और बाद में खेत की जुताई की जरूरत होती है।

2. काटी जाने वाली मिट्टी की मात्रा के आधार पर लेवलिंग के समय जुताई की आवश्यकता होती है। इसके लिए तवा, मोल्डबोर्ड या टाइन वाले का इस्तेमाल किया जा सकता है।

File Courtesy: 
http://www.knowledgebank.irri.org/landprep/index.php/laser-leveling-mainmenu-84/laser-controlled-land-leveling-systems-mainmenu-90/63-plough
14
Sep

लेसर लेवलिंग के लिए 4 पहियों वाले ट्रैक्टर का इस्तेमाल

1. लेवलिंग बकेट को खींचने के लिए 4 पहियों वाले ट्रैक्टर की जरूरत होती है। 

2. कार्य की समय सीमा और खेत के आकार के आधार पर 30 से लेकर 500 एचपी तक के ट्रैक्टर के इस्तेमाल किए जा सकते हैं।

3. लेसर कंट्रोल्ड सिस्टम के लिए 30-100 एचपी वाले एशियन ट्रैक्टरों का इस्तेमाल सफलतापूर्वक किया जाता है।

File Courtesy: 
http://www.knowledgebank.irri.org/landprep/index.php/laser -leveling-mainmenu-84/laser-controlled-land-leveling-systems-mainmenu-90/62-4-wheel-tractor
Image Courtesy: 
CRRI
14
Sep

लेसर लेवलिंग के लिए जरूरी चीजें

1. लेसर लेवलिंग के लिए जरूरी चीजों में शामिल हैं 4 पहियों वाला ट्रैक्टर, हल, ड्रैग बकेट, लेसर ट्रांसमिटर, कंट्रोल पैनल और कंट्रोल वाल्व।

File Courtesy: 
http://www.knowledgebank.irri.org/landprep/index.php/laser -leveling-mainmenu-84/laser-controlled-land-leveling-systems-mainmenu-90/62-4-wheel-tractor
14
Sep

लेसर लेवलिंग के लिए 4 पहियों वाले ट्रैक्टर का इस्तेमाल

1. लेवलिंग बकेट को खींचने के लिए 4 पहियों वाले ट्रैक्टर की जरूरत होती है।

2. कार्य की समय सीमा और खेत के आकार के आधार पर 30 से लेकर 500 एचपी तक के ट्रैक्टर के इस्तेमाल किए जा सकते हैं।

3. लेसर कंट्रोल्ड सिस्टम के लिए 30-100 एचपी वाले एशियन ट्रैक्टरों का इस्तेमाल सफलतापूर्वक किया जाता है।

4. इस कार्य के लिए 4 ह्वील ड्राइव ट्रैक्टर 2 ह्वील ड्राइव ट्रैक्टर की तुलना में अधिक अच्छे होते हैं और अधिक हॉर्सपावर (अश्वशक्ति) वाले ट्रैक्टर जल्दी काम निबटाने के लिए बेहतर होते हैं।

Syndicate content
Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies