Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

Diseases

Diseases
12
Sep

राइस टंग्रो रोग का परिचय

1. इस रोग से दो वायरस कण संबंधित हैं- पहला  RTSV – जो एक RNA वायरस होता है तथा दूसरा  RTBV- जो एक DNA पारा रिट्रोवायरस है। 

2. ये वायरस हरे टिड्डों (जीएलएच),  Nephotettix virescence तथा N.nigropictus के जरिए फैलते हैं, जिनके लिए चावल काफी उचित पोषक पौधा होता है।  

3. वायरसयुक्त हरे टिड्डों के जरिए ये वायरस चावल की पत्तियों में प्रवेश करते हैं, जहां वे उनके पोषक तत्वों का चूषण करते हैं। 

File Courtesy: 
DRR मैनुअल
Image Courtesy: 
CRRI
12
Sep

राइस टंग्रो डिज़ीज़ का इतिहास

1. भारत में राइस टंग्रो डिज़ीज़ सबसे पहले पश्चिम बंगाल में 1966 में देखा गया था।

2. उसके दो साल बाद इसे पूर्वी उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल तथा उत्तर बिहार के क्षेत्रों में देखा गया।

File Courtesy: 
DRR मैनुअल ( डॉ. कृष्णवेणी)
12
Sep

राइस टंग्रो डिज़ीज़ (आरटीडी)

1. चावल को प्रभावित करने वाले रोगों में टंग्रो डिज़ीज़ का व्यापक महत्व है, खास कर यह भारत के प्रायद्वीपीय क्षेत्र के उत्तर-पूर्वी तथा पूर्वी तटीय क्षेत्र में पाया जाता है।   

2‘टंग्रो’ शब्द का अर्थ फिलीपिंस में बोली जाने वाली एक भाषा टैगलो में मंदित विकास होता है, जिसमें पत्ती का रंग फीका पड़ जाता है, जो हल्के हरे से नारंगी-पीले रंग की हो जाती है और टिलर्स की संख्या कम हो जाती है, जिससे पौधे का विकास का बाधित हो जाता है।  

File Courtesy: 
DRR मैनुअल
Image Courtesy: 
DRR
12
Sep

शीथ ब्राउन रॉट का सामान्य रोगाणु

• शीथ ब्राउन रॉट का सामान्य रोगाणु Pseudomonas fuscovaginae Miyajima है।

File Courtesy: 
http://www.knowledgebank.irri.org/smta/ind ex.php?option=com_content &view=article& id=279&catid=35&Itemid=84
12
Sep

शीथ ब्राउन रॉट के लक्षण

शीथ ब्राउन रॉट के लक्षण: 

1. इस रोग के लक्षण बिचड़े की अवस्था में दिखाई पड़ते हैं तथा बाद में इसके कारण आवरण की सड़न तथा रंग फीका पड़ जाता है। 

2. प्रतिरोपण के बाद, संक्रमित बिचड़े  अपने पत्रावरण के निचले भाग में रंख खोकर पीले-भूरे रंग के हो जाते हैं।  

3. आगे चलकर यह रंगहीनता के कारण धूसर-भूरा से गहरे भूरे रंग का हो जाता है। अंततः पत्तियां सड़ जाती हैं तथा संक्रमित बिचड़े मृत हो जाते हैं।  

4. संक्रमित फ्लैग पत्रावरण जल से भर जाता है तथा नेक्रोटिक हो जाता है। अन्य आवरणों में जख्म में उभर आते हैं। 

12
Sep

शीथ ब्राउन रॉट के लक्षण

शीथ ब्राउन रॉट के लक्षण:

1. इस रोग के लक्षण बिचड़े की अवस्था में दिखाई पड़ते हैं तथा बाद में इसके कारण आवरण की सड़न तथा रंग फीका पड़ जाता है।

2. प्रतिरोपण के बाद, संक्रमित बिचड़े अपने पत्रावरण के निचले भाग में रंख खोकर पीले-भूरे रंग के हो जाते हैं।

3. आगे चलकर यह रंगहीनता के कारण धूसर-भूरा से गहरे भूरे रंग का हो जाता है। अंततः पत्तियां सड़ जाती हैं तथा संक्रमित बिचड़े मृत हो जाते हैं।

4. संक्रमित फ्लैग पत्रावरण जल से भर जाता है तथा नेक्रोटिक हो जाता है। अन्य आवरणों में जख्म में उभर आते हैं।

File Courtesy: 
http://www.knowledgebank.irri.org/smta/index.ph p?option=com_content &view=article&id=279&c atid=35&Itemid=84
12
Sep

शीथ ब्राउन रॉट का वितरण तथा मौजूदगी

• बैक्टीरियल शीथ ब्राउन रॉट अब व्यापक रूप से लेटिन अमेरिका, एशिया तथा मध्य अफ्रीका के बुरुंडी की उच्च भूमि में तथा मेडागास्कर में पाया जाता है।

File Courtesy: 
http://www.knowledgebank.irri.org/smta/ind ex.php?option=com_content &view=article&I d=279&catid=35&Itemid=84
12
Sep

शीथ ब्राउन रॉट का परिचय

1. शीथ ब्राउन रॉट द्वारा उत्पन्न हानि के बारे में सही-सही जानकारी की कमी है, पर दक्षिण अमेरिका के उष्णकटिबंधीय तथा समतीशोष्ण हिस्सों में काफी नुकसान किया है।

2. शीथ ब्राउन रॉट का सामान्य रोगाणु Pseudomonas fuscovaginae है।

File Courtesy: 
http://www.knowledgebank.irri.org/smta/inde x.php?option=com_content &view=article&id =279&catid=35&Itemid=84
12
Sep

शीथ ब्राउन रॉट

1. शीथ ब्राउन रॉट के लक्षण बिचड़े निर्माण के चरण में होता है तथा बाद में इसके कारण आवरण का रंग फीका पड़ जाता है और आवरण में सड़न पैदा हो जाती हूं।

2. बैक्टीरियल शीथ ब्राउन रॉट अब व्यापक रूप से लेटिन अमेरिका, एशिया तथा मध्य अफ्रीका के बुरुंडी की उच्च भूमि में तथा मेडागास्कर में पाया जाता है।

3. शीथ ब्राउन रॉट का सामान्य रोगाणु Pseudomonas fuscovaginae Miyajima है।

12
Sep

पेकी राइस के सामान्य रोगाणु

कई कवक नुकसान पैदा करते हैं, जो हैं:  

• Cochliobolus miyabeanus

• Curvularia spp.

• Fusarium spp.

• Microdochium oryzae 

 

File Courtesy: 
http://en.wikipedia.org/wiki/List_of_rice_diseases
12
Sep

पेकी राइस के लक्षण

• हरेक पुष्प-गुच्छ में कई या सभी पुष्प झुर्रीदार हो जाते हैं तथा उनका रंग फीका होकर गहरे भूरे, बैंगनी या सफेद रंग का हो जाता है।

File Courtesy: 
google book
12
Sep

पेकी राइस का वितरण तथा मौजूदगी

• पुष्प-गुच्छ में सिंगल या कई फूलों में भूरे से लाल-भूरे धब्बे उभर आते हैं; स्टिंक बग्स तथा कवक के विकास के कारण दाने का रंग फीका हो जाता है।

File Courtesy: 
google book
12
Sep

पेकी राइस (कर्नल स्पॉटिंग)

पेकी राइस को कर्नल राइस भी कहते हैं

File Courtesy: 
http://en.wikipedia.org/wiki/List_of_rice_diseases
12
Sep

ग्रेन रॉट का सामान्य रोगाणु

• ग्रेन रॉट Burkholderia glumae नामक रोगाणु

File Courtesy: 
http://www.knowledgebank.irri.or g/smta/index.php?option=com_c ontent&view=article&id=280&catid =35&Itemid=84
12
Sep

ग्रेन रॉट के लक्षण

1. बैक्टीरियल ग्रेन रॉट के लक्षण बिचड़े तथा शूकियों पर दिखाई पड़ते हैं।

2. बक्से में उगाए बिचड़े भूरे होकर सड़ जाते हैं।

3. संक्रमित शूकियों के ग्लूम अपना रंग खो देते हैं।

4. तब आरंभ में गंदे धूसर रंग उभरते हैं, तब वे पीले-भूरे और अंततः गहरे भूरे होकर सिकुड़ जाते हैं और आगे चलकर ये मृत हो जाते हैं।

5. मध्यम संक्रमण में, केवल पेलीया का रंग उड़ता है। संग्रमिल कर्नल के मध्य भाग में भूरी पट्टी को स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है।

6. संक्रमित शूकियां एक प्रभावी पुष्प-गुच्छ में असमान रूप से वितरित रहती हैं।

File Courtesy: 
http://www.knowledgebank.ir ri.org/smta/index.php?option=c om_content &view=article&id=28 0&catid=35&Itemid=84
12
Sep

ग्रेन रॉट का आर्थिक महत्व

• इस रोग से होने वाली क्षति का कोई ठोस आकलन नहीं है, पर जापान के नॉर्थ क्युशू द्वीप पर इसकी हानि 900,000 हेक्टेयर तक देखी गई है।

File Courtesy: 
http://www.knowledgebank.irri.org/smta/ind ex.php?option=com_content &view=article &id=280&catid=35&Itemid=84
12
Sep

बैक्टीरियल लीफ स्ट्रीक का रासायनिक नियंत्रण

बैक्टीरियल लीफ स्ट्रीक का रासायनिक नियंत्रण: 

1. कॉपर फंजीसाइड्स से इस रोग को रोकने में मदद मिलती है। 

2. कोसाइड ® (कॉपर हाइड्रॉक्साइड युक्त)  बैक्टीरियल लीफ स्ट्रीक के रासायनिक नियंत्रण में काफी प्रभावी माना जाता है। 

 

File Courtesy: 
http://www.agribusinessweek .com/bacterial-leaf-streak-of-rice/
12
Sep

बैक्टीरियल लीफ स्ट्रीक का पारंपरिक पद्धतियों द्वारा नियंत्रण

बैक्टीरियल लीफ स्ट्रीक के पारंपरिक पद्धतियों द्वारा नियंत्रण में निम्न शामिल हैं: 

1. उर्वरकों का सही उपयोग तथा पौधों के बीच सही स्थान छोड़ना, प्रतिरोधी किस्मों का उपयोग तथा गर्म जल से बीजों का उपचार आदि से इस रोग में नियंत्रण मिल सकता है। 

2. खेतों की सफाई महत्वपूर्ण होती है। रैटून्स, पुआल तथा अन्य बेकार के खास-पात को हटाना चाहिए ताकि मौसम की शुरुआत में इनोकुलम्स का विकास कम से कम हो। 

3. बीज की क्यारी में अच्छी जल निकास से भी इस रोग पर नियंत्रण पाया का सकता है। 

File Courtesy: 
http://agropedia.iitk.ac.in /?q=content /baterial-leaf-streak-bls-rice
12
Sep

बैक्टीरियल लीफ स्ट्रीक का प्रतिरोधी किस्मों द्वारा नियंत्रण

1. BJ, TN1, Ptb 10, CR 1001, जेनिथ, TKM 6 प्रजातियां बैक्टीरियल लीफ स्ट्रीक के प्रति प्रतिरोधी किस्मों के रूप में जानी जाती है।

2. BJ चावल का प्रतिरोध स्वतंत्र प्रतिरोधी जीन के तीन जोड़े से निर्धारित होता है। (नायक तथा अन्य 1975).

File Courtesy: 
DRR ट्रेनिंग मैनुअल ( डॉ. कृष्णवेणी
12
Sep

बैक्टीरियल लीफ स्ट्रीक के प्रबंधन विकल्प

• बैक्टीरियल लीफ स्ट्रीक के नियंत्रण के विकल्पों में शामिल हैं पारंपरिक पद्धतियां, रासायनिक नियंत्रण तथा प्रतिरोधी किस्मों का इस्तेमाल।

File Courtesy: 
DRR ट्रेनिंग मैनुअल ( डॉ. कृष्णवेणी
Syndicate content
Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies