Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

Popular Varieties

Popular Varieties
7
Oct

लैचिट

1. यह रिजनल ऐग्रीकल्चर रिसर्च स्टेशन, AAU, टिटाबर में CRM 13-3241 तथा कलिंगा 2 के बीच क्रॉस के बाद का चयन है। यह मध्यम टिलरिंग वाली (8-11EBT/प्लांट) सेमी ड्वार्फ (95 cm) प्रजाति है।

2. इसके दाने मध्यम बोल्ड (22.3g/1000 दाना) होते हैं, जो सफेद तथा नन-ग्लुटिनस कर्नेल वाले होते हैं। परिपक्व होने में इन्हें 120 दिन लगते हैं तथा उपज 4.0 t/हे.

3. यह स्टेम बोरर, लीफ ब्लाइट तथा जलमग्नता तथा सूखा के प्रति संवेदनशील होता है। इसे वर्ष 1992 में CVRC द्वारा जारी किया गया है।

File Courtesy: 
ICAR NEH, उमियम
24
Sep

किस्म का नाम – एनईएच मेघा चावल 1

किस्म का नाम – एनईएच मेघा चावल 1

1. किस्म की मुख्य विशेषताएं: अर्ध-ऊंची किस्म (100 सेमी), अच्छी तरह गठे हुए व अच्छी तरह बाहर निकले हुए पैनिकल (23.5 सेमी)। मध्यम मोटे दाने, लाल रंग का खोल, गैर-सुगन्धित। मेघालय, मिज़ोरम व नगालैंड के उच्च-ऊंचाई के क्षेत्रों (औसत समुद्र तल से 1500 मीटर से अधिक ऊपर) में वर्षाजल सिंचित निचली भूमि के पारस्थिकी तंत्र के लिए अनुशंसित, बीज लगने से 50% पुष्पण तक की अवधि 135 दिन, प्रजनन के चरण में कम तापमान के प्रति सहिष्णु, कम सौर विकिरण के प्रति भी सहिष्णु। एनईएच मेघा चावल 2 25 जून तक विलम्बित प्रत्यारोपण के लिये उपयुक्त है।

File Courtesy: 
ICAR NEH, Umiam
24
Sep

किस्म का नाम – खोनोरुल्लो

किस्म का नाम – खोनोरुल्लो

1. किस्म की मुख्य विशेषताएं: ऊंची किस्म (120-130 सेमी) बाहर निकले हुए पैनिकल। छोटे मोटे दाने, मेघालय व नगालैंड के उच्च-ऊंचाई के क्षेत्रों (औसत समुद्र तल से 1500 मीटर से अधिक ऊपर) में वर्षाजल सिंचित निचली भूमि के पारस्थिकी तंत्र के लिए अनुशंसित, विलम्बित किस्म, बीज लगने से 50% पुष्पण तक की अवधि 140-145 दिन, प्रजनन के चरण में आवरण की सडन तथा कम तापमान, कम सौर विकिरण के प्रति सहिष्णु।

2. जारीकरण का वर्ष: 1975

3. पैदावार (टन/हेक्टेयर): 4.0 – 4.2

4. बीज उत्पादन की स्थिति: बीज उत्पादन श्रृंखला में

File Courtesy: 
ICAR NEH, Umiam
24
Sep

किस्म का नाम – लुम्प्नाह 1

किस्म का नाम – लुम्प्नाह 1

1. किस्म की मुख्य विशेषताएं: एक मध्यम अवधि की, चिपचिपी, ब्लास्ट के प्रति सहिष्णु किस्म. मध्य ऊंचाई वाले क्षेत्रों में तराई के लिए उपयुक्त।

2. जारीकरण का वर्ष: 2002

3. पैदावार (टन/हेक्टेयर): 4.2 – 4.5

4. बीज उत्पादन की स्थिति: विकसित, उपयोग में नहीं

File Courtesy: 
ICAR NEH, Umiam
24
Sep

किस्म का नाम – शाह सारंग 1

किस्म का नाम – शाह सारंग 1

1. किस्म की मुख्य विशेषताएं: एक मध्यम अवधि की, लोहे की विषाक्तता के प्रति सहिष्णु किस्म. मध्य ऊंचाई वाले क्षेत्रों में तराई के लिए उपयुक्त।

2. जारीकरण का वर्ष: 2002

3. पैदावार (टन/हेक्टेयर):

4. बीज उत्पादन की स्थिति: बीज उत्पादन श्रृंखला में

File Courtesy: 
ICAR NEH, Umiam
24
Sep

किस्म का नाम – न्गोबा

किस्म का नाम – न्गोबा

1. किस्म की मुख्य विशेषताएं: बौना (90-100 सेमी) किस्म, पूरी तरह से बाहर निकले हुए पैनिकल, मध्यम दाने, खोल का रंग लाल लेकिन मिलिंग के बाद सफेद हो जाता है, गैर-सुगन्धित, चिपचिपा। मेघालय के वर्षापोषित उथली ज़मीन के क्षेत्रों के लिए अनुशंसित। प्रकाश के प्रति असंवेदनशील किस्म, सितम्बर के अंतिम हफ्ते में फूल लगते हैं, बीज लगने से 50% पुष्पण तक की अवधि 125 दिन। स्टेम बोरर के प्रति मध्यम प्रतिरोधी। ब्लास्ट के प्रति हल्का संवेदनशील, उच्च लौह के प्रति सहिष्णु।

2. जारीकरण का वर्ष: 1975

3. पैदावार (टन/हेक्टेयर): 3.5 – 4.0

File Courtesy: 
ICAR NEH, Umiam
24
Sep

किस्म का नाम – भालुम 2

किस्म का नाम – भालुम 2

1. किस्म की मुख्य विशेषताएं: मध्यम अवधि की, ब्लास्ट के प्रति उच्च प्रतिरोधी मध्यम-ऊंचाई के क्षेत्रों की ऊपरी भूमि के लिये किस्म।

2. जारीकरण का वर्ष: 2002

3. पैदावार (टन/हेक्टेयर): 3.0 – 3.5

4. बीज उत्पादन की स्थिति: बीज उत्पादन श्रृंखला में

File Courtesy: 
ICAR NEH, Umiam
24
Sep

किस्म का नाम – भालुम 1

किस्म का नाम – भालुम 1

1. किस्म की मुख्य विशेषताएं: मध्यम अवधि की, ब्लास्ट के प्रति उच्च प्रतिरोधी मध्यम-ऊंचाई के क्षेत्रों की ऊपरी भूमि के लिये किस्म।

2. जारीकरण का वर्ष: 2002

3. पैदावार (टन/हेक्टेयर): 3.5 – 3.8

4. बीज उत्पादन की स्थिति: बीज उत्पादन श्रृंखला में

File Courtesy: 
ICAR NEH, Umiam
24
Sep

किस्म का नाम – लुंग्लिनाफोउ

किस्म का नाम – लुंग्लिनाफोउ

1. किस्म की मुख्य विशेषताएं: अर्ध-बौनी, चिपचिपी, घाटी के क्षेत्रों के लिये उपयुक्त चावल की किस्म। गॉल मिज, स्टेम बोरर, ब्लास्ट तथा बीएलबी के प्रति मध्यम प्रतिरोधी।

2. जारीकरण का वर्ष: 2004

3. पैदावार (टन/हेक्टेयर): 6.0 – 6.5

4. बीज उत्पादन की स्थिति: बीज उत्पादन श्रृंखला में

File Courtesy: 
ICAR NEH, Umiam
24
Sep

किस्म का नाम – एरिमाफोउ

किस्म का नाम – एरिमाफोउ

1. किस्म की मुख्य विशेषताएं: ऊंची, गहरे पानी की किस्म, छोटे मोटे दाने, स्टेम बोरर, गॉल मिज, के प्रति सहिष्णु, 140 दिन अवधि।

2. जारीकरण का वर्ष: 2000

3. पैदावार (टन/हेक्टेयर): 3.5 – 4.0

4. बीज उत्पादन की स्थिति: बीज उत्पादन श्रृंखला में

File Courtesy: 
ICAR NEH, Umiam
24
Sep

किस्म का नाम – लैमाफोउ

किस्म का नाम – लैमाफोउ

1. किस्म की मुख्य विशेषताएं: बौना, चिपचिपा, गैर-सुगन्धित किस्म – खरीफ मौसम के लिए अनुशंसित, प्रकाश के प्रति असंवेदनशील, पुष्पणऑक्टोबर के अंतिम सप्ताह में, मध्यम परिपक्वता 140 दिन में। गॉल मिज, स्टेम बोरर, ब्लास्ट एवं बीएलबी के प्रति मध्यम प्रतिरोधी। बाढ के प्रति संवेदनशील।

2. जारीकरण का वर्ष: 1999

3. पैदावार (टन/हेक्टेयर): 5.0 – 6.0

4. बीज उत्पादन की स्थिति: बीज उत्पादन श्रृंखला में

File Courtesy: 
ICAR NEH, Umiam
24
Sep

किस्म का नाम – अकुतिफोउ

किस्म का नाम – अकुतिफोउ

1. किस्म की मुख्य विशेषताएं: अर्ध बौना किस्म, अच्छी तरह गठे व पूरी तरह से बाहर निकले हुए पैनिकल, दाने लम्बे व मोटे, मणिपुर में घाटी के क्षेत्र में तराई की भूमि की पारस्थितिकि के लिए अनुशंसित। बीज लगने से 50% पुष्पण तक की अवधि 95 दिन, गॉल मिज, ब्लास्ट के प्रति सहिष्णु।

2. जारीकरण का वर्ष: 1999

3. पैदावार (टन/हेक्टेयर): 5.0 - 5.5

4. बीज उत्पादन की स्थिति: बीज उत्पादन श्रृंखला में

File Courtesy: 
ICAR NEH, Umiam
24
Sep

किस्म का नाम – आरसी मणिफोउ 7

किस्म का नाम – आरसी मणिफोउ 7

File Courtesy: 
ICAR NEH, Umiam
Image Courtesy: 
ICAR NEH, Umiam
24
Sep

किस्म का नाम – सोनाफोउ

किस्म का नाम – सोनाफोउ

1. किस्म की मुख्य विशेषताएं: अर्ध बौना, मध्यम पूर्व, वर्षाजल या सिंचाई से पोषित घाटी की ज़मीन के लिये उपयुक्त, बहु रोग व कीट के लिये प्रतिरोधी

2. जारीकरण का वर्ष: 2000

3. पैदावार (टन/हेक्टेयर): 5.0 - 5.5

4. बीज उत्पादन की स्थिति: बीज उत्पादन श्रृंखला में

File Courtesy: 
ICAR NEH, Umiam
24
Sep

किस्म का नाम – आरसी मनिफोउ 4

किस्म का नाम – आरसी मनिफोउ 4

File Courtesy: 
ICAR NEH, Umiam
Image Courtesy: 
ICAR NEH, Umiam
24
Sep

किस्म का नाम – पुन्शी

किस्म का नाम – पुन्शी

1. किस्म की मुख्य विशेषताएं: अर्ध ऊंचाई की किस्म (100 सेमी), सुगठित व पूरी तरह से बाहर निकले हुए पैनिकल। दाने मध्यम व महीन, सफेद, चिपचिपे। मणिपुर में मध्यम निम्न ऊंचाई की स्थितियों के लिए अनुशंसित, प्रकाश के प्रति कुछ हद तक संवेदनशील, मध्यम अवधि, सेप्टेम्बर के मध्य में फूल लगते हैं, बीज लगने से 50% पुष्पण तक की अवधि 100-105 दिन, खेत की परिस्थितियों में गॉल मिज, स्टेम बोरर, ब्लास्ट तथा बीएलबी के प्रति संवेदनशील।

2. जारीकरण का वर्ष: 1981

3. पैदावार (टन/हेक्टेयर): 4.8 – 5.0

4. बीज उत्पादन की स्थिति अब खेती के बाहर।

File Courtesy: 
ICAR NEH, Umiam
24
Sep

किस्म का नाम – फोउ-ओल्बि

किस्म का नाम – फोउ-ओल्बि

1. किस्म की मुख्य विशेषताएं: अर्ध लंबा (100-110 सेमी), पूरी तरह से बाहर निकले हुए पैनिकल, दाने लम्बे व मोटे। मणिपुर में मुख्य खरीफ के दौरान सिंचित मध्यम पहाडियों के लिए अनुशंसित, प्रत्यारोपित स्थिति में बीज दर 40-50 ग्राम/हेक्टेयर प्रतिरोपित, 30-40 दिनों की कोपलें देर से अगस्त के पहले सप्ताह तक प्रत्यारोपित की जा सकती हैं, लगभग 130-145 दिनों में परिपक्व हो जाता है। गॉल मिज के प्रति मध्यम संवेदनशील। खेत की परिस्थितियों में ब्लास्ट के प्रति मध्यम संवेदनशील।

2. जारीकरण का वर्ष: 1991

3. पैदावार (टन/हेक्टेयर): 5.0-5.8

File Courtesy: 
ICAR NEH, Umiam
24
Sep

एनईएच मेघा चावल 2

एनईएच मेघा चावल 2

1. यह पुसा 33 पूसा और खोनोरुल्लो के बीच क्रॉस से चयनित है और एनईएच क्षेत्र के लिए आईसीएआर शोध परिसर, उमिअम, मेघालय में ब्रीड की गई है।

2. यह एक अर्द्ध लंबी किस्म है (100 सेमी) जिसके पौधे के भाग हरे पौधे और सुगठित तथा अच्छी तरह से बाहर निकले हुए पैनिकल्स (23.0 सेमी) होते हैं। इसके दाने मध्यम मोटे (22-23 ग्राम/1000 दाने) होते हैं जिनके लाल रंग के खोल होते हैं।

3. इसे मेघालय, मिजोरम और नगालैंड के उच्च ऊंचाई क्षेत्रों (औसत समुद्र तल से 1500 मीटर ऊंचाई से अधिक) के वर्षा आधारित तराई पारिस्थितिकी तंत्र के लिए अनुशंसित किया गया है।

File Courtesy: 
ICAR NEH, Umiam
24
Sep

एनईएच मेघा चावल 1

एनईएच मेघा चावल 1

1. यह पुसा 33 पूसा और खोनोरुल्लो के बीच क्रॉस से चयनित है और एनईएच क्षेत्र के लिए आईसीएआर शोध परिसर, उमिअम, मेघालय में ब्रीड की गई है। यह एक अर्द्ध लंबी किस्म है (100 सेमी) जिसके पौधे के भाग हरे पौधे और सुगठित तथा अच्छी तरह से बाहर निकले हुए पैनिकल्स (23.5 सेमी) होते हैं।

2. इसके दाने मध्यम मोटे (23-24 ग्राम/1000 दाने) होते हैं जिनके लाल रंग के खोल होते हैं। इसे मेघालय, मिजोरम और नगालैंड के उच्च ऊंचाई क्षेत्रों (औसत समुद्र तल से 1500 मीटर ऊंचाई से अधिक) के वर्षा आधारित तराई पारिस्थितिकी तंत्र के लिए अनुशंसित किया गया है।

File Courtesy: 
ICAR NEH, Umiam
24
Sep

खोनोरुल्लो

खोनोरुल्लो

1. यह स्थानीय जर्मप्लाज्म से चयनित है। यह एक ऊंची किस्म है (120-130 सेमी) जिसके पौधे के हिस्से हरे और बाहर निकले हुए पैनिकल्स होते हैं। इसके दाने छोटे व मोटे (23-25 ग्राम/1000 दाने) होते हैं जिसका लाल रंग का खोल होता है जो मिलिंग के बाद सफेद हो जाता है।

2. यह मेघालय और नगालैंड के उच्च ऊंचाई वाले क्षेत्रों (समुद्र तल से औसत ऊंचाई 1500 मीटर से अधिक) के वर्षा आधारित तराई पारिस्थितिकी तंत्र के लिए अनुशंसित किया जाता है।

File Courtesy: 
ICAR NEH, Umiam
Syndicate content
Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies